Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

रिफ्यूजी कश्मीरी पंडितों के लिए अनुपम खेर ने की कविता समर्पित

 Sonalika Azad |  2017-01-19 07:39:40.0

रिफ्यूजी कश्मीरी पंडितों के लिए अनुपम खेर ने की कविता समर्पित

तहलका न्यूज़ ब्यूरो


मुंबई. पिछले 27 सालों से अपने देश में ही रिफ्यूजी की तरह रह रहे कश्मीरी पंडितों को न्याय दिलाने के लिए अभिनेता अनुपम खेर ने एक कविता समर्पित की है. 19 जनवरी 1990, की वो काली रात जब कट्टरपंथियों ने 4 लाख कश्मीरी पंडितों को उनके घरों से जान बचाकर भागने के लिए मजबूर कर दिया था, आज उसकी 27वीं बरसी पर ऐक्टर अनुपम खेर ने उन्हें एक कविता समर्पित की है. उन्होंने ट्वीट करके लिखा है, '27 साल हो गए, हम कश्मीरी पंडित अपने ही देश में अब भी शरणार्थी हैं.


61 वर्षीय अभिनेता अनुपम खेर कश्मीरी पंडित समुदाय से संबंध रखते हैं. इस लिए उन्होंने अपने ट्विटर अकाउंट से... फैलेगा-फैलगा..हमारा मौन...समुद्र के पानी में नमक की तरह...नाम की कविता का वीडियो शेयर किया है, जिसे सुनने के बाद हर किसी की आंखें गम से भीग जाएगी.उन्होंने कहा,'कोई कश्मीरी पंडित उस दिन को भुला नहीं सकता. मस्जिदों से ऐलान किया जा रहा था, कश्मीरी पंडितों अपना घर

छोड़कर चले जाओ.


वह रात हमारे कश्मीरी पंडित दोस्त और रिश्तेदार कभी नहीं भूल सकते. आज अगर वह वापस आना भी चाहें तो नहीं आ सकते क्‍योंकि न तो उनका घर है और न ही घाटी में उनकी जमीन बची है. कश्‍मीरी पंडितो का दर्द बयां नहीं किया जा सकता है .


Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top