Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

भाजपा कार्यालय में चल रहा है सपा के घमासान पर मंथन

 Sabahat Vijeta |  2016-12-29 10:43:29.0

Amit Shah
तहलका न्यूज़ ब्यूरो


लखनऊ. प्रदेश भाजपा मुख्यालय में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के साथ प्रदेश भाजपा प्रभारी ओम माथुर, प्रदेश अध्यक्ष केशव मौर्या और उपाध्यक्ष डॉ. दिनेश शर्मा ने कई घंटे मंथन किया. इस मंथन के बीच काफी देर तक हाल में भाजपा में शामिल हुईं डॉ. रीता बहुगुणा जोशी भी मौजूद रहीं. अमित शाह के भाजपा कार्यालय पहुँचने के फ़ौरन बाद बसपा छोड़ भाजपा का दामन थामने वाले स्वामी प्रसाद मौर्या भी पहुंचे थे लेकिन कुछ ही देर बाद वह वापस आ गये.


अमित शाह ने आज किन मुद्दों पर वरिष्ठ नेताओं के साथ विमर्श किया इसकी जानकारी पार्टी के राज्य स्तरीय नेताओं के पास नहीं है लेकिन समझा जा रहा है कि इस मंथन में विधानसभा चुनाव में पार्टी प्रत्याशियों के चयन के साथ-साथ समाजवादी पार्टी में मचे घमासान को लेकर भी चर्चा हुई. प्रतिष्ठा का सवाल बनाकर भाजपा विधानसभा चुनाव लड़ने जा रही भाजपा इस बार अपना सीधा मुकाबला समाजवादी पार्टी से मान रही है.


भारतीय जनता पार्टी को नहीं लगता कि नोटबंदी से भाजपा को नुकसान होगा. भाजपा यह मानकर चल रही है कि नोटबंदी का सबसे ज्यादा नुकसान बहुजन समाज पार्टी को होगा. ओम माथुर समेत भाजपा के तमाम नेता यह मानकर चल रहे हैं कि 2017 के चुनाव में बसपा कहीं भी स्टैंड नहीं करेगी.


अमित शाह के लखनऊ दौरे के मद्देनज़र प्रदेश भाजपा कार्यालय पर पार्टी नेताओं का हुजूम उमड़ा हुआ है. करीब-करीब सभी बड़े नेता पार्टी कार्यालय में नज़र आये. इन नेताओं के बीच बातचीत के दो ही मुद्दे थे पहला विधानसभा चुनाव और दूसरा विषय समाजवादी पार्टी. एक वरिष्ठ भाजपा नेता ने यहाँ तक कहा कि मुलायम जिस तरह की हरकतें कर रहे हैं उसे देखते हुए अखिलेश को कांग्रेस के साथ मिल जाना चाहिए. भाजपा कार्यालय में मौजूद लोगों की निष्ठा भाजपा से जुड़ी है लेकिन सीएम अखिलेश यादव को लेकर अधिकाँश नेताओं के मन में साफ्ट कार्नर है. इन नेताओं का मानना है कि समाजवादी पार्टी ने काफी समय तक अखिलेश को काम नहीं करने दिया और जब अखिलेश ने काम करना शुरू किया तब उनके काम में अड़ंगे लगाने लगे. अखिलेश को तो चाहिये था कि वह ऐसे नेताओं को छोड़कर कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बना लेते.


भाजपा के एक वरिष्ठ नेता से जब अमित शाह की बैठक के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि नहीं बैठक तो कोई नहीं है. अध्यक्ष जी आये हैं तो पार्टी के वरिष्ठ नेता उनसे शिष्टाचार के नाते मिलने चले आये हैं. इस शिष्टाचार वाली मुलाक़ात में मंथन क्या चल रहा है तो वह बोले कि मंथन तो बस यही है कि किस तरह से ज़रूरी सीटें जुटाई जाएँ. जब उनसे यह पूछा गया कि क्या ज़रूरी सीटें जुटाने में कोई शक है तो वह बोले नहीं शक तो नहीं है.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top