Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

प्रधानमंत्री मोदी को मायावती ने दी ये सलाह...

 Vikas Tiwari |  2016-09-19 12:21:17.0

प्रधानमंत्री मोदीतहलका न्यूज़ ब्यूरो

लखनऊ.  हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर द्वारा उनके राज्य के मेवात क्षेत्र में दो बहनों के साथ सामूहिक बलात्कार व बिरयानी में गोमांस को लेकर विवादों को ‘‘छोटी-मोटी लगातार होती रहने वाली घटना" बताने की तीखी आलोचना करते हुये बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि इस प्रकार के ग़़लत व महिला-विरोधी बयानों से भाजपा नेताओं का असली चाल, चरित्र व चेहरे जनता के सामने बेनकाब होता है। भाजपा नेतृत्व व ख़ासकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को उनके इस आपत्तिजनक बयान का जरूर नोटिस लेना चाहिये क्योंकि उन्होंने ‘‘बेटी बचाओ, बेटी बढ़ाओ‘‘ के अभियान की शुरूआत हरियाणा राज्य से ही की थी, परन्तु उनके वहाँ के मुख्यमंत्री ही स्वयं महिलाओं की आबरू- इज्जत की ख़ास परवाह नहीं कर रहे है।

मायावती ने आज जारी एक बयान में कहा कि मुख्यमंत्री जैसे अपार जिम्मेदारी वाले पद पर बैठे हुये व्यक्ति को यह कतई शोभा नहीं देता है कि वह महिला-विरोधी इस प्रकार की गलत मानसिकता का सार्वजनिक प्रदर्शन करे। सामूहिक बलात्कार की पीड़ित दो बहनों के प्रति सहानुभूति का भाव दिखाकर उनकी पीड़ा को कम करने व इंसाफ पाने की उम्मीद बढ़ाने के बजाय हरियाणा के भाजपा मुख्यमंत्री का इस प्रकार की गलत बयानबाजी से ही अपराधियों के हौसले बढ़ते हैं। दोषियों के खिलाफ सख़्त क़ानूनी कर्रवाई करके इस प्रकार की जघन्य घटनाओं को रोकने का प्रयास करने के बजाय, ऐसी घटना को हरियाणा के मुख्यमंत्री द्वारा छोटी-मोटी घटनायें बताना बहुत ही दुःखद व शर्मनाक है।
इसी प्रकार की गलत व महिला-विरोधी मानसिकता से ग्रस्त बयान सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव ने भी कुछ दिनों पहले तब दिया था जब ‘‘निर्भया काण्ड‘‘ के परिपेक्ष्य में बलात्कारियों के खिलाफ काफी सख़्त कानून बनाने की तैयारी चल रही थी। महिलाओं व युवतियों की इज्जत-आबरू की थोड़ी भी परवाह ना करते हुये श्री यादव ने बयान दिया था कि ’लड़कों से गलती हो जाती है’, उन्हें सख्त सजा नहीं मिलनी चाहिये।
मायावती ने कहा कि महिलाओं का आत्म-सम्मान व इज्जत-आबरू के घोर निराशाजनक रवैये व मानसिकता का ही यह परिणाम है कि उत्तर प्रदेश में वर्तमान सपा सरकार के दौरान महिलाओं के साथ जुल्म-ज्यादती व बलात्कार आदि की घटनायें आम बात हो गई है। प्रदेश सरकार में महिलायें कहीं भी सुरक्षित नहीं रह गईं हैं। हर दिन वे जुल्म-ज्यादती व बलात्कार एवं छेड़छाड़ आदि का शिकार हो रही हैं और अपनी जान तक गवाँ रही हैं। देश की आमजनता को ऐसी महिला-विरोधी मानसिकता रखने वाले लोगों के खिलाफ हिम्मत करके आगे आना होगा।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top