Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

लखनऊ मेट्रो-यूरोपियन बैंक के बीच 3300 करोड़ रुपए का हुआ करार

 Tahlka News |  2016-03-31 04:48:34.0

443705-modi-in-brussels-2-pti


तहलका न्यूज ब्यूरो
लखनऊ, 31 मार्च.  भारत-यूरोपीय संघ (ईयू) के 13वें शिखर सम्मेलन में बेल्जियम पहुंचे नरेंद्र मोदी ने बुधवार को यूरोपियन इंवेस्टमेंट बैंक (ईआईबी) से लखनऊ मेट्रो को लोन दिलवाने के लिए एमओयू किया। बैंक लखनऊ मेट्रो को 450 मिलियन यूरो (करीब 3300 करोड़ रुपए) का लोन देगी और सालाना 55 फीसदी की दर से इंटरेस्ट लेगी। यह कर्ज 20 साल में चुकाना होगा। पहले चार साल तक कोई इंस्टॉलमेंट नहीं देना होगा। बाकी बचे 16 साल में कर्ज की अदायगी करनी होगी।


डील से पहले चरण के तहत बैंक और भारत सरकार के बीच 200 मिलियन यूरो के अमाउंट पर एमओयू हुआ। बाकी पैसे के लिए प्रोजेक्ट की प्रगति के मुताबिक दोबारा बात की जाएगी। बता दें, बैंक का ये लोन लखनऊ मेट्रो प्रोजेक्ट की कुल लागत का आधा है। इस रकम से लखनऊ मेट्रो की 23 किमी लंबी लाइन का नि‍र्माण और मेट्रो कोच की खरीद होगी।


अब तक सबसे बड़ा समझौता
यूरोपियन इंवेस्टमेंट बैंक के प्रवक्ता रिचर्ड विल्स ने कहा कि ये हमारे लिए बेहद महत्वपूर्ण है क्योंकि यूरोपियन यूनियन के बाहर ट्रांसपोर्ट के क्षेत्र में अब तक का सबसे बड़ा समझौता है। पीएम ने इस दौरान यूरोपीय यूनियन के प्रमुख नेताओं जैसे यूरोपीय काउंसिल प्रेसीडेंट डोनाल्ड टस्क और यूरोपीय आयोग के अध्यक्ष जीन क्लॉड से मुलाकात की। साथ ही रणनीतिक भागीदारी में तेजी लाने की वकालत की।

बताते चले कि अमौसी से मुंशीपुलिया तक बनने वाले 23 किमी के मेट्रो के प्रोजेक्ट पर कुल 6800 करोड़ रुपये खर्च होंगे। इसमें 60 फीसदी हिस्सा विदेशी बैंकों से लोन का है। बाकी पैसा केंद्र और राज्य सरकार देगी। बता दें, शहर में अभी तक पब्लिक ट्रांसपोर्ट की हिस्सेदारी महज 10 फीसदी है। मेट्रो बनने के बाद यह करीब 27 फीसदी तक हो जाएगी।

  Similar Posts

Share it
Top