Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

आदर्श आचार संहिता के साथ ही राजनीतिक दलों पर लगी बंदिशें

 shabahat |  2017-01-04 13:41:04.0



तहलका न्यूज़ ब्यूरो

लखनऊ. चुनाव आचार संहिता लागू होने के बाद राजनीतिक दलों के लिये आज से कुछ बंदिशें लग गई हैं. अब जाति-धर्म के नाम पर वोट की अपील नहीं की जा सकेगी. किसी भी भवन पर भवन स्वामी की मर्जी के बगैर पोस्टर-बैनर इत्यादि नहीं लगाये जा सकेंगे. वाल रायटिंग पर पूरी तरह से रोक लग गई है. चुनाव कार्यक्रमों के दौरान मंत्री सरकारी गाड़ी का इस्तेमाल नहीं कर सकेंगे. आचार संहिता लगने के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी टी.वेंकटेश ने यह जानकारी आज संवाददाताओं को दी.


उन्होंने बताया कि चुनाव लड़ रहे प्रत्याशियों को चुनाव के लिये अलग से अपना बैंक खाता खुलवाना होगा. चुनाव का सारा आय-व्यय उसी खाते से संचालित करना होगा. उन्होंने बताया कि चुनाव आयोग चुनाव के दौरान पेड न्यूज़ पर कड़ी नज़र रखेगा.

निर्वाचन आयोग ने आदर्श आचार संहिता लगने के बाद यह स्पष्ट कर दिया है कि धर्म स्थलों का उपयोग चुनाव प्रचार के लिये नहीं किया जा सकेगा. धर्म के आधार मतदाताओं से कोई अपील नहीं की जा सकेगी. उन्होंने बताया कि आचार संहिता लागू होने के बाद मंत्री और अन्य राजनैतिक पदाधिकारी वायुयान, हैलीकाप्टर और सरकारी वाहन का इस्तेमाल चुनावी गतिविधियों में नहीं कर पायेंगे. चुनावी गतिविधियों में अतिथि ग्रहों का उपयोग भी नहीं किया जा सकेगा.

निर्वाचन आयोग ने यह भी स्पष्ट कर दिया है कि चुनाव ड्यूटी में लगाये गये सभी कर्मचारियों को निर्वाचन आयोग के साथ प्रतिनियुक्ति पर माना जायेगा. आयोग लगातार इनके काम और आचरण पर नज़र रखेगा.

चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशियों को इस बार नामांकन पत्र के साथ फार्म-26 पर शपथ पत्र दाखिल करना होगा. इस शपथ पत्र में कोई भी कालम खाली नहीं छोड़ा जा सकता. शपथ पत्र का निर्देश सुप्रीम कोर्ट की तरफ से है.

चुनाव के दौरान सभी घटनाओं की वीडियोग्राफ़ी कराई जायेगी. शान्ति व्यवस्था के लिये केन्द्रीय सशस्त्र पुलिस बल और राज्य सशस्त्र पुलिस बल को लगाया जायेगा.

इस चुनाव में सभी मतदाताओं को फोटोयुक्त वोटर पर्ची बूथ लेबिल अधिकारियों द्वारा उपलब्ध कराई जायेगी. इन्हीं पर्चियों का उपयोग मतदान के समय पहचान के लिये किया जा सकेगा.

चुनाव के दौरान फ़्लाइंग स्क्वाड, सर्विलांस टीमें, वीडियो सर्विलांस, आबकारी, पुलिस और आयकर विभाग की टीमों की मदद ली जायेगी. एयरपोर्ट पर भी सतर्कता बरती जायेगी.
उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में 403 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र हैं. इनमें 317 सामान्य, 84 अनुसूचित जाति और 2 अनुसूचित जनजाति के लिये आरक्षित हैं. 1,47,148 पोलिंग स्टेशन बनाये गये हैं. इन पोलिंग स्टेशनों पर 14,12,53,172 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे. इन मतदाताओं में 7,68,09,778 पुरुष, 6,44,36,122 महिलायें और 7272 थर्ड जेंडर के मतदाता हैं. साहिबाबाद (गाज़ियाबाद) सबसे बड़ा विधानसभा क्षेत्र है और आर्य नगर सबसे छोटा विधानसभा क्षेत्र है.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top