Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

एमएलसी बनने के लिए सपा में लाबींग हुई तेज़

 Sabahat Vijeta |  2016-05-13 12:56:20.0

sp-mulaym-akhileshतहलका न्यूज़ ब्यूरो


लखनऊ. विधान परिषद सदस्यों के निर्वाचन की तारीख घोषित होते ही समाजवादी पार्टी में दावेदारों की लाबिंग तेज हो गई है. विधानपरिषद की 13 सीटें आगामी 6 जुलाई को रिक्त हो रही हैं. इन सीटों के लिए विधानसभा सदस्य 10 जून को मतदान करेंगे. सीटों के गणित के हिसाब से समाजवादी पार्टी के खाते में 8 सीटें आना तय है.


एक तरफ विधानपरिषद सदस्य बनने के लिए समाजवादी पार्टी में नेताओं ने वरिष्ठ नेताओं की गणेश परिक्रमा शुरू कर दी है तो दूसरी तरफ समाजवादी पार्टी भी फूंक-फूंक कर क़दम रख रही है. पार्टी की निगाह में इस वक़्त मिशन-2017 सबसे मत्वपूर्ण है. वह ऐसे प्रत्याशियों की तलाश में लगी है जो विधानसभा चुनाव में उसके लिए काम के साबित होने वाले हैं.


विधानपरिषद के 13 सदस्यों का कार्यकाल खत्म हो रहा है. इनमें समाजवादी पार्टी के 4 सदस्य हैं. होने वाले चुनाव के बाद समाजवादी पार्टी के खाते में 8 सदस्य आने वाले हैं. समाजवादी पार्टी के जो चार सदस्य रिटायर हो रहे है. उनमें एक मुसलमान, एक यादव, एक ठाकुर और एक अति पिछड़ा वर्ग से है. पार्टी होने वाले चुनाव में भी सीटों का संतुलन ऐसा ही बनाने वाली है. समाजवादी पार्टी इस बार ब्राह्मण को भी विधानपरिषद भेज सकती है.


6 जुलाई को रिटायर होने वाले यशवंत सिंह और राम सुन्दर दास निषाद को पार्टी दोबारा भी उम्मीदवार बना सकती है. 6 जुलाई को समाजवादी पार्टी के बुक्कल नवाब और बलराम यादव भी रिटायर हो रहे हैं. बहुजन समाज पार्टी के अतहर खां, ऋषिपाल, राम कुमार कुरील, लाल चन्द्र निषाद, वीरेन्द्र कुमार चौहान, सतीश चन्द्र और सुबोध कुमार रिटायर हो रहे हैं. कांग्रेस के नसीब पठान और भारतीय जनता पार्टी के ह्रदय नारायण दीक्षित को 6 जुलाई को रिटायर होना है.


विधान परिषद के लिए आख़री फैसला हालांकि पार्टी मुखिया मुलायम सिंह यादव और मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की अध्यक्षता वाली संसदीय समिति को ही लेना है लेकिन दावेदारों का नाम सामने आना शुरू हो गया है. रंजना वाजपेयी, हीरा ठाकुर, सी.पी.राय, नईमुल हसन, संजय लाठर, वीरेन्द्र सिंह, जूही सिंह, कमलेश पाठक, चन्द्र भूषण उर्फ़ गुड्डू राजा, सरफराज़ खां, डॉ. राम आसरे कुशवाहा, सुरेन्द्र अग्रवाल, शतरुद्र प्रकाश, रणविजय सिंह, संजय सेठ और जय शंकर पाण्डेय का नाम चर्चा में है. संजय सेठ का नाम पहली बार तब चर्चा में आया था जब राज्यपाल राम नाइक ने उन्हें एमएलसी बनाने से इनकार कर दिया था. विधान परिषद के लिए 24 से 31 मई के बीच नामांकन होना है.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top