Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

मायावती ने की देश में करूणा और दया की वकालत

 Abhishek Tripathi |  2016-05-21 08:01:49.0

mayawati_buddha_1305543865

तलहका न्‍यूज ब्‍यूरो
लखनऊ:
बसपा प्रमुख मायावती ने देशव‍ासियों को बुद्ध पूर्णिमाा की बधाई देते हुए कहा कि गौतम बुद्ध ने शांति का संदेश दिया। आज देश में शांंति, अहिंसा, करूणा, दया की सबसे ज्यादा जरुरत है।

मायावती ने कहा कि गौतम बुद्ध ने शांति, अहिंसा, करूणा व ’’जाति-विहीन समतामूलक समाज’’ की स्थापना के लिये अपना सारा जीवन ही नहीं बल्कि अपना सब कुछ कुर्बान कर दिया था। आज पूरी दुनिया में उनके मानने वाले लोग हैं। ऐसे महान मानवतावादी गौतम बुद्ध के आदर-सम्मान में इनकी त्याग-तपस्या और विचारों को चिरस्थायी बनाने के लिए यूपी बसपा की चार बार बनी सरकार ने अनेकों ऐतिहासिक कार्य किये हैं। जिनमें उनके नाम से भव्य पार्कों, संग्रहालयों, स्थलों, विश्वविद्यालयों, महाविद्यालयों के निर्माण आदि के साथ-साथ जनहित और जन-कल्याण की योजनाओं की शुरुआत व नए ज़िले की स्थापना शामिल है।


यह भी पढ़े:  


इनमें बौद्ध धर्म के हृदयस्थल उत्तर प्रदेश ’’बौद्ध परिपथ’’ का विकास व उसका विश्व पर्यटकों के योग्य सौंदर्यीकरण, विश्व-स्तरीय गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय का ग्रेटर नोएडा, ज़िला गौतम बुद्ध नगर की स्थापना, लखनऊ के वी.आई.पी. रोड पर भव्य ’’बौद्ध विहार शान्ति उपवन’’ का निर्माण, ऐतिहासिक डा. भीमराव अम्बेडकर सामाजिक परिवर्तन स्थल, लखनऊ में ’’बौद्ध स्थल’’ का निर्माण, गौतम बुद्ध एवं उनके जीवन से जुड़े स्थलों के नाम पर चार नये ज़िलों की स्थापना आदि प्रमुख हैं।


इसके अलावा तथागत गौतम बुद्ध की माता महामाया के नाम पर भी बसप सरकार द्वारा अनेकों ऐतिहासिक काम उत्तर प्रदेश में किये गये हैं, जिनमें जन-कल्याण की अत्यन्त महत्वाकांक्षी महामाया ग़रीब आर्थिक मदद योजना, महामाया ग़रीब बालिका आर्शीवाद योजना व नये महामाया नगर ज़िले की स्थापना आदि प्रमुख हैं।


इसके साथ ही बौद्ध धर्म की दीक्षा लेने वाले परमपूज्य बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर की इस अमरवाणी को भी आज बुद्ध जयन्ती के इस शुभ अवसर पर याद किया गया कि ’बौद्ध धर्म में जात-पात, असमानता व चतुरवर्ण का कोई स्थान नहीं है’, जिसके लिये बसपा मूवमेन्ट समर्पित है।

  Similar Posts

Share it
Top