Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

बुखारी ने मुलायम से पूछा, मुझे राज्यसभा क्यों नहीं भेजा

 Sabahat Vijeta |  2016-05-19 10:57:44.0

mulayam_bukhari1तहलका न्यूज़ ब्यूरो


लखनऊ. जामा मस्जिद दिल्ली के शाही इमाम मौलाना अहमद बुखारी आज अपने दामाद के साथ समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव से मुलाक़ात करने पहुंचे. मुलाक़ात के वक्त मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और वरिष्ठ कैबिनेट मंत्री शिवपाल सिंह यादव भी मौजूद थे. मौलाना बुखारी से जुड़े सूत्रों के मुताबिक यह मुलाक़ात राजनीतिक नहीं व्यक्तिगत है. मौलाना बुखारी मुलायम सिंह यादव से निजी मुद्दों पर बात करने गए थे.


बताया जाता है कि मौलाना अहमद बुखारी ने मुलायम सिंह यादव के सामने इस बात पर सख्त एतराज़ जताया कि समाजवादी पार्टी द्वारा घोषित राज्यसभा सीटों में एक पर भी किसी मुसलमान को उम्मीदवार नहीं बनाया गया है. जब मौलाना बुखारी को बताया गया कि विधान परिषद में बुक्कल नवाब को दोबारा भेज रहे हैं. इस जवाब से बुखारी संतुष्ट नहीं हुए.


बुक्कल नवाब शिया मुसलमान हैं. उन्हें दोबारा विधान परिषद भेजा जा रहा है जबकि शियों के पास इतना बड़ा वोट बैंक भी नहीं है. बताया जाता है कि मौलाना बुखारी इस बार खुद राज्यसभा जाना चाह रहे थे लेकिन मुलायम इस बार अमर सिंह को राज्यसभा भेजने का फैसला कर चुके थे. एक बार में ही बुखारी और अमर को राज्यसभा भेजना उन्हें उचित नहीं लगा क्योंकि बुखारी और अमर सिंह दोनों का ही आज़म खां से 36 का रिश्ता है. अमर सिंह का नाम घोषित किये जाने के बाद से ही आज़म नाराज़ हैं और उन्होंने यहाँ तक कहा कि नेताजी पार्टी के मालिक हैं वह जो चाहें वह करें.


सूत्रों के मुताबिक सपा सुप्रीमो मौलाना बुखारी को बहुत ज्यादा भाव नहीं देना चाहते हैं लेकिन जामा मस्जिद के शाही इमाम होने के नाते उनकी कुछ बातें मान भी लेते हैं. उनके दामाद को उनकी खुशी के लिए विधायक भी बनवाया लेकिन इसके बावजूद बुखारी के दिल में जब जो आता है वह बोल देते हैं. मुलायम देवबंद सीट पर हुए उपचुनाव में कांग्रेस के हाथों सपा के पराजित होने की वजह से काफी चिंतित हैं. ऐसे में बुखारी के साथ मोर्चा खोलकर वह अपनी चिंताओं को बढ़ाना नहीं चाहते हैं.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top