Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

देखें तस्वीरें: 22 दिन की सुहागन हुई विधवा, पति नक्सली हमले में शहीद

 Tahlka News |  2016-07-20 02:49:04.0

bihar_naxal_attackतहलका न्यूज ब्यूरो
खगड़िया (बिहार). 22 दिन पहले जिस क्षमा प्रिया के हाथों में मेहंदी लगी थी और बाबुल के घर से विदा होकर पिया के आंगन में चहकती हुई आई थी। उसे मंगलवार को यकीन नहीं हो रहा था कि उसका सुहाग उजड़ गया है।

bihar_naxal_attack1


भाई विपिन ने जैसे ही मंगलवार दोपहर एक बजे उसे बताया कि उसके पति दिवाकर शहीद हो गए हैं तो वह अचेत हो गई। उसे समझ में ही नहीं आया कि यह क्या हो गया। उसका चीत्कार सुनकर हर किसी का कलेजा दहल गया। बेसुध क्षमा बार-बार एक ही बात कह रही है उसके दिवाकर को कुछ नहीं हुआ है। वह ठीक हैं। लोग उसकी शादी से जलते हैं इसलिए झूठ बोल रहे हैं।


bihar_naxal_attack2


महिलाएं उसे चुप कराती है पर अपनी सूजी हुई आंखों से आस-पास खड़े लोगों को निहारती है और फिर दहाड़ मारकर रोने लगती है। महज 20 साल की उम्र में उसका वैधव्य लोगों को सिहरा रहा है। क्षमा के भाई विपिन ने बताया कि उन्हें मंगवार को दिन में एक बजे पता चला कि दिवाकर शहीद हो गए हैं।


उधर, शहीद दिवाकर की मां सुनीता देवी की भी यही हालत है। उन्हें जब पता चला कि उनका इकलौता बेटा शहीद हो गया है वो अचेत होकर गिर पड़ी। लगभग डेढ़ माह पहले ही उनका किडनी का ऑपरेशन पटना में हुआ है। उन्हें गंभीर स्थिति में पहले महेशखूंट में दिखलाया गया, फिर बेगूसराय ले जाया गया। वहीं दिवाकर के पिता तुनुकलाल तिवारी को जब से घटना की जानकारी मिली है वे चौकी पर लेट गए हैं। आंखें सूनी हैं। बस लेटे हुए हर आनेजाने वाले को निहार रहे हैं। एक बहन शीला जो महेशखूंट में रहती है उसे जानकारी मिली तो वह भी मां के पास झंझरा पहुंची। घर पहुंचते हीं अचेत होकर गिर गई।


bihar_naxal_attack3


परिवार में किसी को विश्वास ही नहीं हो रहा है कि उनका दुलारा अब नहीं रहा। सीआरपीएफ के कोबरा बटालियन में काम करते हुए देश के लिए कुर्बानी की बलि बेदी पर चढ़ गया। दिवाकर के गांव और ससुराल के लोगों को उसपर फक्र है। वे कहते हैं दिवाकर ने अपनी मिट्टी का कर्ज चुकाया है।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top