Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

बेदाग़ आईएएस को बनाएं यूपी का अगला मुख्य सचिव

 Sabahat Vijeta |  2016-05-21 13:14:31.0

urvashiलखनऊ. गिफ्ट में मिला 30 लाख रुपये का हार खो जाने पर राज्यकर्मियों का मानवाधिकार हनन करने वाले यूपी के मुख्य सचिव आलोक रंजन को आज लखनऊ के एक धरने में समाजसेवियों ने जमकर कोसा. रंजन को दागी आई.ए.एस. बताते हुए समाजसेवियों ने सवाल उठाया कि आखिर रंजन ने ऐसा कौन सा काम किया था जो उन्हें इतना मंहगा गिफ्ट मिला. यूपी में बेदाग़ छवि के आईएएस को ही अगला मुख्य सचिव बनाने की मांग के लिए सामाजिक संस्था येश्वर्याज सेवा संस्थान ने आज राजधानी के जी.पी.ओ. हजरतगंज स्थित महात्मा गाँधी पार्क में आयोजित एक धरने में पूर्व मुख्य सचिव जावेद उस्मानी और सेवा विस्तार पाए वर्तमान मुख्य सचिव आलोक रंजन को सूबे के समाजसेवियों ने निशाने पर लिया.


यूपी में अगले साल 2017 की शुरुआत में ही विधानसभा चुनाव भी होने हैं. ऐसे में यह साल 2016 चुनावी साल होने के कारण यूपी की सत्ताधारी समाजवादी पार्टी की सरकार के लिए बहुत महत्वपूर्ण है. सरकार की योजनाओं को लागू कराने में मुख्य सचिव की सर्वाधिक महत्वपूर्ण भूमिका होने की व्यवस्था की वजह से ही यूपी की सरकार अपने मनपसंद आई.ए.एस. को ही सूबे का मुख्य सचिव बनाने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा रही है ताकि वह आम जनता के लिए कम प्रभावी योजनाओं को भी अपने दिखावटी अंदाज में प्रस्तुत कर जनता को गुमराह कर सके.


यही कारण रहा है कि अखिलेश यादव ने स्वयं पत्र लिखकर वर्तमान मुख्य सचिव आलोक रंजन के सेवा-विस्तार की अनुशंसा की ताकि इस चुनावी वर्ष में सरकार रंजन के सहारे चुनावी वैतरिणी में अपना सफर जारी रख सके. अब सूबे के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर दागी आई.ए.एस. अधिकारियों को ही सूबे का मुख्य सचिव बनाने का आरोप लग रहा है और इस बार अखिलेश पर यह आरोप सूबे के समाजसेवियों ने लगाया है. समाजसेवियों ने पूर्व मुख्य सचिव जावेद उस्मानी और वर्तमान मुख्य सचिव आलोक रंजन को दागी बताते हुए अखिलेश यादव के खिलाफ मोर्चा खोलकर किसी बेदाग़ छवि के आईएएस को ही यूपी का अगला मुख्य सचिव बनाने की मांग से जोरदार ढंग से उठाई.


धरने की आयोजिका समाजसेविका उर्वशी शर्मा ने बताया कि धरने में प्रदेश के सुदूर क्षेत्रों से आये समाजसेवियों ने शिरकत की. उर्वशी ने बताया कि यूपी की सरकारें अपने निहितार्थ साधने के लिए ही दागदार छवि के आई.ए.एस. अधिकारियों को मुख्य सचिव जैसा महत्वपूर्ण पद सौंप रही हैं ताकि सरकार मदारी बन इन दागियों को बन्दर की तरह अपने इशारों पर नचा सके. उर्वशी के अनुसार दागी होने के नाते यह आई.ए.एस. भी जनहित को सर्वोपरि रखने का अपना कर्तव्य भूलकर सरकार के चाटुकार बन जाते हैं और आम जन के लिए जनकल्याणकारी कार्यों को प्राथमिकता देने के स्थान पर सरकार की दिखावटी योजनाओं की डुगडुगी पीट-पीट कर अपना उल्लू सीधा करते रहते हैं.


यूपी के पूर्ववर्ती मुख्य सचिव जावेद उस्मानी को केंद्र की पूर्ववर्ती मनमोहन सरकार के कोयला घोटाले का दागी और 30 जून 2016 तक सेवा विस्तार पाए आलोक रंजन को ई.ओ.यू.-1 दिल्ली के अपराध संख्या आर.सी.-2(ई)/2007,जिसमें दिनांक 09/09/2015 को अलोक रंजन के खिलाफ अभियोजन की माँगी गयी थी, के कारण दागी बताते हुए उर्वशी ने अखिलेश यादव को भ्रष्टाचार के मुद्दे पर आड़े हाथों लेते हुए सवाल उठाया कि आखिर क्यों अखिलेश ने न केवल यूपी के दो दागी आई.ए.एस. अधिकारियों को लगातार यूपी का मुख्य सचिव बनाया बल्कि आलोक रंजन को तो तीन माह का सेवा विस्तार दिलाने में व्यक्तिगत रूचि भी ली ? उर्वशी के अनुसार अखिलेश के ऐसे कृत्यों से उनकी भ्रष्टाचार के मामले में मिस्टर क्लीन की छवि खुद-ब-खुद ही संदेह के दायरे में आ रही है.


धरने के बाद देश के प्रधानमंत्री और सूबे के राज्यपाल, मुख्यमंत्री और उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश को ज्ञापन भी भेजा गया. उर्वशी के अनुसार यदि उनके इस सार्वजनिक प्रदर्शन के बाद भी किसी दागी आई.ए.एस. को ही सूबे का मुख्य सचिव बना दिया जाता है तो उनका संगठन भ्रष्टाचार को पोषित करने बाले सरकार के इस जन-विरोधी कदम का उच्च न्यायालय में पी.आई.एल. दायर कर विरोध करेगा. धरने में अशोक कुमार गोयल,तनवीर अहमद सिद्दीकी,शीबू निगम,ज्ञानेश पाण्डेय,राम स्वरुप यादव,राज कमल सोनी सहित बड़ी संख्या में समाजसेवियों ने प्रतिभाग कर इमानदार मुख्य सचिव की माँग के लिए हुंकार भरी .

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top