Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

40 दिन में दौड़ने लगेंगी लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे पर गाड़ियाँ

 Sabahat Vijeta |  2016-08-07 15:42:26.0

sahgal expres


# प्रमुख सचिव नवनीत सहगल ने निरीक्षण कर आंकी प्रगति की रफ़्तार, दिए निर्देश 


तहलका न्यूज़ ब्यूरो


लखनऊ. अखिलेश सरकार की सबसे महत्वाकांक्षी योजना लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस वे का निर्माण अगले 40 दिन में पूरा करने के निर्देश दिए गए हैं. उत्तर प्रदेश के प्रमुख सचिव सूचना, धर्मार्थ एवं यूपीडा के चेयरमैन और मुख्य कार्यपालक अधिकारी नवनीत सहगल ने आज देश की सबसे लम्बी एक्सेस कन्ट्रोल आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे के निर्माण प्रगति की जानकारी खुद मोहान रोड से 63 किलोमीटर तक सफर कर प्राप्त की.  सहगल ने चल रहे निर्माण की गुणवत्ता भी जांची और एक्सप्रेस-वे को हर हाल में अक्टूबर तक चालू करने की व्यवस्था करने को कहा.


रिकार्ड समय में पूरा होने वाले इस एक्सप्रेस वे के शुरू होजाने के बाद लखनऊ से दिल्ली वाया आगरा में लगाने वाला समय मात्र साढ़े पांच घंटे का रह जायेगा. ऐसे  एक्सप्रेस वे पर आम तौर पर होने वाली दुर्घटनाओ से बचने के लिए एडवांस ट्रैफिक सिस्टम का इतेमाल किया जा रहा है. इस एक्सस्प्रेस वे पर सभी चिकित्सा सुविधाओं से लैस ट्रामा सेंटर भी बनाया जा रहा है. एक्सप्रेस पर उच्च सुविधाओं से लैस एम्बुलेंस भी रहेगी.


तय समय सीमा को हर हाल में पूरा करने वाले अधिकारी की छवि रखने वाले नवनीत सहगल ने रविवार की  सुबह 8 बजे मोहान रोड से निरीक्षण शुरू किया और डॉ. शकुन्तला मिश्रा विश्वविद्यालय से स्टेट हाई-वे 40 मोहान रोड के चौड़ीकरण के कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिये. उन्होंने हाई-वे पर फ्लाई ओवर तथा सर्विस लेन बनाने के निर्देश देते हुए फ्लाई ओवर का प्रस्ताव जल्दी प्रस्तुत करने को कहा. उन्होंने मोहान रोड में निर्माणाधीन एक्सप्रेस-वे इण्टरचेन्ज/ट्रम्पेट व लूप (गोलचक्कर) पर रि इन्फोर्स अर्थवाल के निर्माण में तेजी लाने के निर्देश दिये. उन्होंने हाई-वे पर नहर पर बने पुल का निरीक्षण किया और पुल की फिनिशिंग जल्द से जल्द पूरा करने के निर्देश दिये.


नवनीत सहगल ने स्वयं  आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे पर लगभग 63 किलोमीटर की यात्रा की और  वृक्षारोपण सहित निर्माण कार्य के विभिन्न पक्षों को अच्छी तरह से देखा. वह मोहान रोड से चलकर महमूदपुर गांव पर रुके और वहां सड़क निर्माण की अत्याधुनिक आटोमेटिक कम्प्यूटराइज्ड सेण्टर पेवर मशीनों से गिट्टी बिछाने और कांक्रीट-डामर मिक्सचर को बिछाने के काम को देखा. उन्होंने तत्काल बिछाई गई डामर कांक्रीट मिक्सचर की पर्त पर थर्मामीटर रखवाकर मिक्सचर बनाने के लिए निर्धारित टेम्प्रेचर 130 डिग्री सेल्सियस की जांच की, जो सही पाया गया. उन्होंने आटोमेटिक मशीनों से डिवाइडर कर्व कटिंग के कार्य को भी देखा.


उन्होंने 292 किलोमीटर पर अत्याधुनिक आटोमेटिक मशीनों से वेट मिक्स मैकेडम बिछाने के कार्य को भी देखा. इसके बाद उन्होंने ग्राम मटरिया पर निर्माणाधीन लघु सेतु के कार्य प्रगति का निरीक्षण किया और ठेकेदार लार्सन एण्ड टूब्रो (एल एण्ड टी) को कार्य में और तेजी लाने के निर्देश दिये.


इसके बाद प्रमुख सचिव ने मोहान के करीब साइट कैम्प आफिस में यूपीडा, एल. एण्ड टी. के अभियन्ताओं के साथ निर्माण रणनीति, सड़क निर्माण की कठिनाइयों और निर्माण कार्य की गति बढ़ाते हुए अगले 40 दिनों में शेष कार्य को पूरा करने के सम्बन्ध में चर्चा की. बैठक में यूपीडा के मुख्य अभियन्ता विश्व दीपक, अधीक्षण अभियन्ता एन.एन. श्रीवास्तव, एल. एण्ड टी. के प्रोजेक्ट हेड संजय शर्मा एवं मुख्य प्रोजेक्ट मैनेजर मनीष संतानी तथा अथारिटी इंजीनियर्स के कंसल्टेन्ट ए.के. सिन्हा उपस्थित थे. उन्होंने कहा कि सड़क निर्माण का जितना कार्य बचा है वह अगले 40 दिनों में पूरा हो जाये और अक्टूबर में सड़क परिवहन के लिए खोल दी जाये.


नवनीत सहगल ने बरसात के कारण सड़क निर्माण कार्य की तेजी में पड़ने वाले प्रतिकूल प्रभाव से निपटने के लिए आवश्यक उपायों पर चर्चा की. उन्होंने निर्देश दिये कि ठेकेदार, निर्माण श्रमिक और मशीनें वर्षा की स्थिति में भी साइट से बाहर नहीं जाएंगे बल्कि साइट पर ही टेण्ट आदि की व्यवस्था करके रहेंगे, ताकि वर्षा समाप्त होते ही संक्षिप्त समय के लिए रुके निर्माण कार्य को शुरु कर निर्माण की निरंतरता को बनाये रखा जा सके.


उन्होंने  270 किलोमीटर पर सड़क के डीवाईडर वाली जगह पर  वृक्षारोपण भी किया. इस एक्सप्रेस वे पर 5 लाख पेड़ लगाने का लक्ष्य है. उन्होंने कहा कि राज्य की गौरव इस सड़क के विकास के लिए जितने पेड़ काटे गये हैं उससे 10 गुना ज्यादा पेड़ लगाये जाएंगे. पेड़ लगाने वाले ठेकेदारों को पेड़ों की सुरक्षा और उन्हें बड़े होने तक खाद एवं पानी देते रहने के निर्देश भी उन्होंने दिये.


एक्सप्रेस-वे पर निर्माणाधीन हवाई पट्टी का भी निरीक्षण किया गया . उन्होंने एयर स्ट्रिप बिछाने का काम कर रही अत्याधुनिक आटोमेटिक कम्प्यूटराइज्ड पेवर मशीन का भी निरीक्षण किया. इस अवसर पर इंजीनियरों  ने बताया कि यह मशीन एक दिन में 500 से 800 मीटर एयर स्ट्रिप का निर्माण कर रही है. उन्हें यह काम सितम्बर तक पूरा करने का निर्देश दिया गया है.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top