Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

सुप्रीम कोर्ट ने मोदी सरकार से कहा- जरूरी खर्च के लिए चलने दीजिए 500-1000 के पुराने नोट

 Girish Tiwari |  2016-12-16 08:56:54.0

currency-notes-620x400

तहलका न्‍यूज ब्‍यूरो
नई दिल्‍ली:
सुप्रीम कोर्ट ने नोटबंदी को लेकर मोदी सरकार द्वारा की गई तैयारियों के लिए उसे फटकार लगाई। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि केंद्र सरकार इस बात का जवाब दे कि लोगों के बीच कैश को सामान्य तरीके से क्यों नहीं बांटा जा पा रहा।


सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि रोजमर्रा की जरूरतों के लिए 500 और 1000 के पुराने नोटों को फिलहाल चलने दिया जाना चाहिए। सुप्रीम कोर्ट ने कहा, ‘पुराने नोटों को फिलहाल सरकारी हॉस्पिटल में चलने दिया जाना चाहिए ताकि लोग दवाई ले सकें। सुप्रीम कोर्ट का इशारा उस तरफ था कि किसी-किसी के पास इतने सारे नोट बरामद हो रहे हैं और ज्यादातर लोग लाइन में लगे हुए हैं।


चीफ जस्टिस टीएस ठाकुर, जस्टिस ए एम खनवालकर और जस्टिस डी वाई चंद्रचूड की बेंच ने कहा कि नोटबंदी की वजह लोग बड़ी परेशानी में आ गए हैं। बेंच ने कहा कि कुछ लोगों को इतना सारा पैसा मिल रहा है और कुछ लोग एक नोट के लिए भी तरस रहे हैं।

अगर आप लोग व्यवस्था नहीं कर पा रहे तो आम लोग क्यों परेशानी झेलें?’ इसपर अटर्नी जनरल मुकल रोहतगी ने कहा कि लोग जिस भी परेशानी का सामना कर रहे हैं वह कुछ ही दिनों में खत्म हो जाएगी। लेकिन कोर्ट पुराने नोटों के इस्तेमाल के लिए कोई आदेश पारित ना करे।

रोहतगी ने कहा कि अगर सुप्रीम कोर्ट ने पुराने नोटों को चलाने का ऑर्डर दे दिया तो काफी मात्रा में कालाधन सफेद कर लिया जाएगा। रोहतगी ने यह भी माना कि पेट्रोल पंप और रेलवे रिजर्वेशन के जरिए काफी सारा कालाधन सफेद कर लिया गया है। ऐसे में सुप्रीम कोर्ट ऐसे लोगों को दोबारा मौका ना दे।




Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top