Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

एम.ए थामस नेशनल ह्यूमन राइट्स अवार्ड के लिए चुने गए काशी के डा.लेनिन रघुवंशी

 Vikas Tiwari |  2016-12-20 15:02:46.0

lenin raghuvanshi

तहलका न्यूज़ ब्यूरो

वाराणसी. काशी के जमीनी स्तर पर मानवाधिकार कार्यकर्ता के रूप में संघर्षरत डा.लेनिन रघुवंशी को विजिल इण्डिया मूमेन्ट के अन्तर्गत एम.ए थामस नेशनल ह्यूमन राइट्स अवार्ड 2016 से 21 दिसम्बर 2016 को इयुमिनिकल ईसाई केंद्र बेंगलोर में सम्मानित किया जाएगा | अवार्ड को प्राप्त करने के लिए डा.लेनिन रघुवंशी बेंगलोर के लिए रवाना हो चुके है|


विजिल इण्डिया मूमेन्ट के अन्तर्गत एम.ए थामस नेशनल ह्यूमन राइट्स अवार्ड का चयन तीन सदस्यीय निर्णायक मंडल द्वारा किया गया | इस वर्ष के चयन निर्णायक मण्डल में न्यायमूर्ति संतोष हेगड़े (पूर्व न्यायाधीश, भारत के सर्वोच्च न्यायालय), अकबर मिर्जा खलीली और डॉ चेरियन थॉमस (दुनियावी ईसाई केंद्र और सचिव एवं निदेशक (ईरान और अन्य देशों और बोर्ड विम के ट्रस्टी के लिए भारत के पूर्व राजदूत एवं विम के ट्रस्टी ) ने सर्वसम्मति से देश के विभिन्न भागों से प्राप्त मानवाधिकार कार्यकर्ताओं के नामांकन में से इस अवार्ड के लिए डा.लेनिन रघुवंशी को चयनित किया।


डा. लेनिन रघुवंशी, दलितों, वंचितों व अल्पसंख्यको के मानवाधिकार के लिए लगातार संघर्ष करते रहे है । 1996 में अपने संघर्ष को संगठित करने के लिए एक संगठन मानवाधिकार जननिगरानी समिति का गठन किया और इस संगठन के माध्यम से, वह लगातार हाशिए पर समुदाय के अधिकारों, विशेष रूप से दलितों और अल्पसंख्यको के अधिकारों को सुनिश्चित करने में लोगों के संघर्ष में अनवरत शामिल रहे है ।


अपने द्वारा लगातार किये गए संघर्षो से दलितों वंचितों व अल्पसंख्यको को उनके अधिकारों के हनन पर पैरवी कर उनको न्याय दिलाने का कार्य किया उनके इन तमाम कार्यो राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर काफी सराहना व तमाम अवार्डो से सम्मानित किया जाता रहा है इसी कड़ी में विजिल इण्डिया मूमेन्ट के अन्तर्गत एम.ए थामस नेशनल ह्यूमन राइट्स अवार्ड 2016 से 21 दिसम्बर 2016 को इयुमिनिकल ईसाई केंद्र बेंगलोर में सम्मानित किया जाएगा |


जागरण भारत आंदोलन के संस्थापक अध्यक्ष स्वर्गीय डॉ एम ए थॉमस की स्मृति में 1994 में एम ए थॉमस राष्ट्रीय मानवाधिकार पुरस्कार की शुरूआत की गयी थी । अवार्ड के रूप में रुपए एक लाख और एक प्रशस्ति पत्र प्रदान किया जायेगा । अवार्ड में मिली एक लाख की धनराशी को डा० लेनिन द्वारा मानवाधिकार जननिगरानी समिति को मानवाधिकारो के काम को आगे बढ़ने के लिए दान किया जाएगा|

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top