Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

बागी सपा विधायक पर समाजवादी सरकार का बुलडोजर

 Tahlka News |  2016-04-28 12:37:17.0

a1तहलका न्यूज ब्यूरो
लखनऊ. आखिरकार सीतापुर से सपा विधायक रामपाल यादव का रसूख काम नहीं आया। गुरुवार को लोहिया पथ पर उनके द्वारा निर्माणाधीन अवैध मल्टीस्टोरी बिल्डिंग को गिराने के लिए एलडीए यूनिट का दस्ता पहुंच गया। जैसे ही जेसीबी के जरिए अवैध निर्माण को गिराना शुरू कर दिया, रामपाल के समर्थक मौके पर पहुंच गए। उन्होंने हंगामा शुरू कर दिया। समर्थकों ने रिवॉल्वर लहराई। एलडीए वीसी की पिटाई कर दी। इस पर पुलिस ने भी लाठीचार्ज कर दिया और समर्थकों को गिरफ्तार कर लिया। विवाद बढ़ता देखकर एलडीए के अफसर मौके से गायब हो गए। विधायक रामपाल यादव का कहना है कि यह दूसरी बार हुआ है कि एलडीए बिना कोर्ट के आदेश के कार्रवाई करने पहुंचे।


a2


बताते चलें कि पंचायत चुनाव के दौरान सपा से रामपाल यादव को निकाल दिया गया था। इसके बाद उन्होंने जिला पंचायत अध्यक्ष और ब्लॉक प्रमुख के चुनाव में पार्टी के खिलाफ प्रत्याशी खड़े किए और जीत भी दिलाई। हालांकि, बाद में उनका निलंबन वापस ले लिया गया।



आखिरकार मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की सख्ती के आगे सपा के बागी विधायक रामपाल यादव की दबंगई काम न आई। गुरूवार दोपहर एलडीए के दस्ते ने पुलिस के साथ मिलकर विधायक की बेटी दीपा यादव के नाम दर्ज भूखंड के अवैध निर्माण ध्वस्त ध्वस्त करवा दिया। आप को बता दें इस निर्माणाधीन बिल्डिंग में सीएम के निर्देशों को ताक पर रखकर इस बागी विधायक ने व्यवसायिक काम शुरू करवा दिया था। इसके बाद जिम्मेदारों की नींद खुली। तब से निर्माण गिराने की प्रक्रिया शुरू हुई और एलडीए के दस्ते ने निर्माण ढहा दिया।


a3


इससे पहले कार्रवाई के नाम पर एलडीए ने की थी खानापूर्ति आप को बता दें पिछले महीने 29 जनवरी 2016 को 2 जेसीबी, 1 जनरेटर, 1 थाने की पुलिस और 1 कंपनी पीएसी के साथ एलडीए का दस्ता अवैध निर्माण ढहाने पहुंचा था लेकिन कार्यवाई शुरू करते ही विधायक रामपाल ने प्रश्नों और आरोपों से एलडीए के अधिकारियों को घेर लिया था। कमाल की बात यह रही थी कि एलडीए द्वारा कार्यवाई करने की कोई खास तैयारी नहीं दिखी थी। विधायक ने कहा था कि क्या एलडीए को पता है इस क्षेत्र में कितने अवैध निर्माण है? एलडीए अधिकारी इस सवाल का जवाब नहीं दे पाये थे। इसके बाद विधायक ने जब ध्वस्तीकरण के आदेश एलडीए से मांगे तो अधिकारियों के पास वो भी नहीं मौजूद रहे थे। इसके बाद एलडीए दस्ता उल्टे पैर लौट गया था।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top