Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

2007 अजमेर दरगाह ब्लास्ट : स्वामी असीमानंद बरी, जानें पूरा मामला

 Vikas tiwari |  2017-03-08 11:43:11.0

2007 अजमेर दरगाह ब्लास्ट : स्वामी असीमानंद बरी, जानें पूरा मामला

तहलका न्यूज़ ब्यूरो

जयपुर. बुधवार को 2007 के अजमेर में सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती की दरगाह धमाके के मामले में एक विशेष अदालत ने स्वामी असीमानंद को बरी कर दिया. मामले के 9 अभियुक्तों में से 3 सुनील जोशी, भावेश और देवेंद्र गुप्ता को दोषी करार दिया गया है.

स्वामी असीमानंद पर हमले की योजना बनाने का आरोप था. 11 अक्टूबर 2007 को हुए इस ब्लास्ट में तीन लोगों की मौत हो गई थी और करीब 20 लोग घायल हुए थे.

मामले की जांच 2011 में एनआईए को सौंपी गई थी. चार्जशीट में असीमानंद को मास्टर माइंड बताया गया था. असीमानंद और छह अन्य पर हत्या, साजिश रचने, बम लगाकर धमाका करने और घृणा फैलाने का आरोप लगाया गया था.

आप को बतादें कि स्वामी असीमानंद कई अन्य बम ब्लास्ट के मामले में भी आरोपी हैं जिसमें हैदराबाद की मक्का मस्जिद में 2007 में ब्लास्ट और उसी वर्ष भारत-पाकिस्तान के बीच चलने वाली समझौता एक्सप्रेस ब्लास्ट शामिल है जिसमें लगभग 70 लोगों की मौत हो गई थी. उन्हें 2010 में जेल भेजा गया जहां उन्होंने आतंकी मामलों में कथित तौर पर अपनी भूमिका को स्वीकार किया था. बाद में उन्होंने कहा कि जांच अधिकारियों ने उन्हें प्रताड़ित करके झूठा बयान दिलाया था.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top