Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

घटिया खाने के वीडियो से चर्चा में आये बीएसएफ जवान तेज बहादुर की मुश्किलें बढ़ीं

 shabahat |  2017-02-05 17:21:49.0

घटिया खाने के वीडियो से चर्चा में आये बीएसएफ जवान तेज बहादुर की मुश्किलें बढ़ीं

नई दिल्ली. जम्मू-कश्मीर के पुंछ में तैनात बीएसएफ के जवान तेज बहादुर की मुश्किलें दूर होने का नाम नहीं ले रही हैं. सीमा पर तैनात जवानों को घटिया खाना देने का वीडियो वायरल होने के बाद से तेज बहादुर निशाने पर है. इस वीडियो के ज़रिये तेज बहादुर ने यह सवाल उठाया था कि पानी जैसी दाल और सूखी रोटियां खिलाकर देश की सीमा को कब तक सुरक्षित रखा जा सकता है. खुद पर बढ़ते दबाव से परेशान होकर तेज बहादुर बीएसएफ मुख्यालय राजौरी में अनशन पर बैठ गये हैं.

यह वीडियो वायरल हुआ तो बीएसएफ के जवान तेज बहादुर पर सख्ती शुरू हो गई. उस पर अपना बयान वापस लेने का दबाव बढ़ गया लेकिन एक बार आगे बढ़ जाने के बाद उसने पीछे लौटने से इनकार कर दिया. अर्द्ध सैनिक बलों के जवानों को घटिया खाना दिये जाने के मामले पर दिल्ली हाईकोर्ट ने गृह मंत्रालय को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया है. चीफ जस्टिस जी. रोहिणी और जस्टिस संगीता ढींगरा सहगल की खंडपीठ ने बीएसएफ के साथ-साथ सीआरपीएफ, सीआइएसएफ, आईटीबीपी, एसएसबी और असम रायफल्स से भी इस सम्बन्ध में अपना पक्ष रखने का आदेश दिया है.
अदालत ने जवान तेज बहादुर के उस बयान को बहुत गंभीरता से लिया है कि जली हुई रोटियां और दाल के नाम पर हल्दी का पानी दिया जा रहा है. अदालत ने इस मामले में अगली सुनवाई के लिये 27 फरवरी की तारीख तय की है. अदालत की ओर से कार्रवाई का डर और मामला गृह मंत्री राजनाथ सिंह तक पहुँच जाने से बौखलाए अधिकारियों ने तेज बहादुर पर ही दबाव बढ़ा दिया है. जवान का बयान लेने के लिये उसे बीएसएफ के राजौरी मुख्यालय लाया गया है. परेशान तेज बहादुर ने वीआरएस के लिये अप्लाई किया तो यह कहकर उसे रद्द कर दिया गया कि अभी जांच चल रही है. हर तरफ से परेशान हो चुके तेज बहादुर ने राजौरी मुख्यालय में ही शनिवार से खाना-पीना छोड़ दिया है. उसका कहना है कि न तो उसकी सुनवाई हो रही है और न ही उसके साथ व्यवहार ही ठीक हो रहा है.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top