Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

पत्नी और आत्मा के बीच प्यार की जंग है कवच

 Sabahat Vijeta |  2016-06-18 12:12:12.0

monaतहलका न्यूज़ ब्यूरो


लखनऊ. मोना सिंह और विवेक दहिया आज लखनऊ में थे. वह यहाँ कलर्स चैनल पर 11 जून को शुरू हो चुके धारावाहिक कवच के प्रमोशन के लिए आये थे.


एकता कपूर के इस नये धारावाहिक में भूत-प्रेत की कहानियों को ड्रामाटाईज करने की कोशिश की गई है. टेलीविज़न पर कवच के रूप में ऐसी कहानी से परिचय होगा जिसमें एक युवक को एक तरफ उसकी पत्नी प्यार करेगी तो दूसरी तरफ उसे चाहने वाली एक आत्मा होगी. पत्नी और आत्मा के बीच प्यार की जंग है कवच.


प्यार और जुनून की इस अविस्मरणीय कहानी को सुनाने के लिए मोना सिंह और विवेक दहिया आज लखनऊ में पत्रकारों से रूबरू हुए. यह धारावाहिक शनिवार और रविवार को रात 8 बजे से प्रसारित किया जाएगा.


प्यार के कई रूप होते हैं लेकिन जब शैतानी प्रवृत्ति की बारी आती है तो उसमें व्यक्ति के अस्तित्व को हथियाने की ताकत आ जाती है. कलर्स की फिनिट पैरानॉर्मल थ्रिलर सीरीज कवच में काली शक्तियों से प्यार, जुनून और प्रेत बाधा की कहानी देखने को मिलेगी. इसमें प्यारी सी जोड़ी परिधि और राजबीर के जीवन तथा उसकी पागल प्रेमिका मंजूलिका की अतृप्त आत्मा के जरिए दो ताकतों अच्छाई और बुराई के बीच जंग दिखाई गई है. इस धारावाहिक के प्रमुख कलाकारों मोना सिंह और विवेक दहिया ने अपने प्रशंसकों के साथ बात करने तथा उन्हें अपने अनुभव सुनाने के लिए आज लखनऊ का दौरा किया.


यह धारावाहिक यकीनन प्रेम कहानी है लेकिन एक तरफ समर्पित पत्नी है जो सभी बुराइयों से अपने पति की रक्षा करती है तथा दूसरी तरफ अतृप्त आत्मा है जो उसी व्यक्ति के प्रति अधूरे प्यार के कारण उनके वैवाहिक जीवन को नरक बना देती है.


यह परिधि और राजबीर के प्रेम और एक दूसरे के प्रति समर्पण तथा मंजूलिका के बुरे रास्ते की कहानी है जिनके जरिए वह उन दोनों को अलग करने तथा राजबीर को पाने की कोशिश करती है.


मोना सिंह ने पत्रकारों से बातचीत में बताया कि कवच सच्ची घटना पर आधारित है. उन्होंने कहा कि दर्शकों को यह कहानी पसंद आयेगी क्योंकि सास-बहू देखते-देखते उन्हें भी अब बदलाव की ज़रुरत थी. उन्होंने कहा कि लखनऊ आकर यहां की समृद्ध संस्कृति एवं स्वादिष्ट व्यंजन का अनुभव करके मैं पूरा रोमांच महसूस कर रही हूं. लखनऊ के लोगों ने मेरा गर्मजोशी से स्वागत किया और मुझे उम्मीद है कि वह इस नए प्रयास में भी हमारा समर्थन करेंगे. नवाबों के इस शहर में अपने प्रशंसकों और अपने चाहने वालों से मिलकर भी बेहद रोमांच का अनुभव हो रहा है. उन्होंने कहा कि मैं परिधि के किरदार में पूरी तरह रम गई हूं क्योंकि वह आज आजाद महिला है जो जीवन में व्यावहारिक होने पर विश्वास करती है. वह मंजूलिका की बुरी आत्मा को धारण करेगी लेकिन अपने पति राजबीर के प्रति उसका प्रेम हर बुराई से लड़ने में उसकी मदद भी करेगी.


धारावाहिक के बारे में विवेक दहिया ने कहा कि मैं पहली बार लखनऊ आया हूं इसलिए चिकनकारी का कुर्ता खरीदने और टुंडे कबाब का जायका लेने का मन है. जिसके बारे में मैंने बहुत सुना है. इस धारावाहिक की कहानी बहुत कसी हुई है जो दर्शकों को अपने साथ जोड़े रखेगी.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top