Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

जौहर यूनीवर्सिटी पर लहराएगा हिन्दुस्तान का सबसे ऊंचा तिरंगा

 Sabahat Vijeta |  2016-03-20 15:45:27.0


  • शिवपाल सिंह यादव ने कोसी नदी पर रोहेला बैराज का किया शिलान्यास

  • 216.35 करोड़ की लागत से बनेगा यह बैराज

  • 3 किलोमीटर लम्बा और 500 मीटर चौड़े डैम को पर्यटन स्थल के रूप में किया जायेगा विकसित

  • गोमती नदी लखनऊ की तरह कोसी नदी पर जौहर विश्वविद्यालय से लेकर बैराज तक बनेगा रीवर फ्रंट

  • बैराज निर्माण से 31 किलोमीटर मुख्य नहर एवं 168 किलोमीटर रजवाहे व अल्पिकाओं में उपलब्ध होगा अतिरिक्त जल

  • 9 महीने में बैराज निर्माण कार्य पूर्ण करने के दिये निर्देश

  • लोगों के दिलों में इल्म का चिराग रोशन करना सबसे बड़ी समाज सेवा


shiv-azamलखनऊ, 20 मार्च. उत्तर प्रदेश के लोक निर्माण, सिंचाई, जल संसाधन एवं परती भूमि विकास, राजस्व, लोक सेवा प्रबंधन एवं सहकारिता विभाग के मंत्री शिवपाल सिंह यादव ने प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव द्वारा 19 अक्टूबर 2013 को रामपुर बैराज के निर्माण की गई घोषणा को मूर्त रूप देते हुए प्रदेश के काबीना मंत्री आज़म खां की उपस्थिति में आज जनपद रामपुर में कोसी नदी पर स्थित रोहेला बैराज का बटन दबाकर शिलान्यास करते हुए कहा कि बैराज के निर्माण हो जाने पर इस क्षेत्र के लोगों को मुख्यालय आने-जाने के साथ ही सींच की क्षमता बढ़ जायेगी।


बाढ़ जैसी दैवीय आपदाओं से भी उन्हें छुटकारा मिलेगा। उन्होंने कहा कि जनपद के 4 ब्लाक डार्क जोन में है इस डैम में 3 किलोमीटर तक हमेशा पानी भरे रहने से धीरे-धीरे यह समस्या भी समाप्त हो जायेगी। उन्होंने सिंचाई विभाग के अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि बैराज निर्माण का कार्य 9 महीने के अन्दर पूर्ण कर लिये जायें इसके लिए धन की कमी नहीं आने दी जायेगी।


श्री यादव ने कहा कि आजादी के बाद सिंचाई क्षेत्र में जितने काम किये गये थे उससे कई गुना अधिक कार्य वर्तमान सरकार के 4 वर्ष की अवधि में किया गया है। उन्होंने कहा कि किसानों के हितों को ध्यान में रखते हुए सरयू परियोजना, नरौरा परियोजना, मिर्जापुर इलाहाबाद परियोजना आदि में तेजी से निर्माण कार्य कराते हुए नरौरा में 4000 क्यूसिक, हरिद्वार में 2000 क्यूसिक पानी की क्षमता बढ़ाई गई है। आगरा और मथुरा में पानी की किल्लत व स्थानीय समस्याओं को देखते हुए 400 क्यूसिक पानी की क्षमता बढ़ाई गई है। वर्तमान सरकार किसानों के हितों को ध्यान में रखते हुए अब तक कुल 700 करोड़ रूपये का आबपाशी शुल्क माफ किया गया है तथा 464385 उथले बोरिंग, 5908 गहरी बोरिंग, 24709 मध्यम गहरी बोरिंग, 1543 चेकडैम, 5715 सामुदायिक ब्लास्ट कूप, 863 सामुदायिक नलकूप का निःशुल्क निर्माण कराकर 12.43 लाख हैक्टेयर सिंचन क्षमता बढ़ाई गई। साथ ही 50 हजार रूपये तक किसानों के कर्ज माफी के लिए ऋण माफी योजना 2012 लागू की गई जिसके तहत 1788 करोड़ रूपये की धनराशि से 786000 किसानों के ऋण माफ किये गये।


सिंचाई मंत्री ने कहा कि 3 किलोमीटर लम्बा और 500 मीटर चौड़ा डैम बनाकर गोमती नदी लखनऊ की तरह इस नदी पर भी रोहेला बैराज से मो. अली जौहर विश्वविद्यालय तक खूबसूरत रीवर फ्रंट का निर्माण कर पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जायेगा। उन्होंने कहा कि नदियों के उथली हो जाने से अकसर बाढ़ आती है जिसे गहरा करके इस दैवीय आपदा से लोगों को राहत दिलाने का भी कार्य किया जायेगा। उन्होंने रामपुर में बनी ऐतिहासिक मोहम्मद अली जौहर विश्वविद्यालय तथा सुंदर चौड़ी सड़कों की प्रशांसा करते हुए कहा कि इतनी खूबसूरत और चौड़ी सड़के तो हमारे सैफई गांव में भी नहीं हैं। मोहम्मद अली जौहर विश्वविद्यालय को ऐतिहासिक यूनिवर्सिटी बनाने में सरकार व हमारे विभाग से सभी सहयोग मिलता रहेगा।


उन्होंने कहा कि नगर विकास मंत्री ने जो लोगों के दिलो में इल्म का चिराग रोशन करने के लिए जो बीड़ा उठाया है वह समाज की सबसे बड़ी सेवा है। उन्होंने कहा कि मो. अली जौहर विश्वविद्यालय में हिन्दुस्तान का सबसे ऊॅंचा 210 फिट का तिरंगा झण्डा लहरायेगा जिसे शीघ्र तैयार किया जायेगा। इस अवसर पर संसदीय कार्य एवं नगर विकास मंत्री आज़म खां द्वारा जनपद के विकास के लिए 3 मांगे रखी गई जिसे सिंचाई मंत्री द्वारा स्वीकार करते हुए शीघ्र पूर्ण करने के लिए सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिये।


संसदीय कार्य एवं नगर विकास मंत्री मो. आज़म खां ने अपने अध्यक्षी सम्बोधन में कहा कि लोक निर्माण एवं सिंचाई मंत्री शिवपाल सिंह यादव खुद एक अच्छे इंसान भी है। प्रदेश के सर्वागीण विकास के साथ ही किसानों, नौजवानों, गरीबों, मजदूरों की भलाई के लिए इनका दिल हमेशा धड़कता रहता है और उनके कल्याण के लिए हमेशा तत्पर रहते हैं। उन्होंने कहा कि जनपद रामपुर के विकास में जो इंकलाब आया है वह एक मिसाल है। उन्होंने कहा कि सैफई दुनिया का सबसे खूबसूरत गांव है ऐसा गांव न तो अमेरिका में है और न ही यूरोप में। यह गांव एक तीर्थ स्थल की तरह है जिसे सभी को देखना चाहिए। उन्होंने लोक निर्माण मंत्री से मुखातिब होते हुए कहा कि जिस तरह का विकास सैफई गांव में किया गया है वैसा ही विकास रामपुर में भी करा दिया जाय।


श्री खां ने कहा कि आने वाले वक्त में देश उन्हीं को याद रखेगा, जो देश के जिम्मेदार लोग समाज की भलाई के लिए अच्छी सोच रखते हुए और निःस्वार्थ भाव से अच्छे कार्य करतेे हैं। उन्होंने कहा कि उच्च शिक्षा के मैदान में जौहर विश्वविद्यालय एक संग-ए-मील का काम करेगी। यहाॅ पर पी.एच.डी. डिग्री अवार्ड करने के लिए छात्रों का रजिस्ट्रेशन शुरू कर दिया गया हैं। यहाॅ पर बच्चों को गुणवत्ता युक्त उच्च शिक्षा के साथ-साथ नैतिक मूल्यों एवं अच्छे आचरण का पाठ भी पढ़ाया जाता हैं।


प्रमुख सचिव सिंचाई दीपक सिंघल ने कहा कि आज मुझे मो. अली जौहर विश्वविद्यालय देखने का अवसर प्राप्त हुआ 34 वर्ष की सेवा में मुझे कई देशों में भ्रमण करने का मौका भी मिला हैं लेकिन मो. अली जौहर विश्वविद्यालय में बनाई गई इतनी खूबसूरत इमारतें मुझे और कहीं देखने को नहीं मिली हैं। पानी की टांकी में बच्चों को पढ़ने के लिए बनाये गये कक्ष का सिस्टम एक अनोखा प्रयोग है जिसे देखने पर यह पता चलता है कि इसको बनाने में दिलो जान से एक पैशन के साथ मेहनत की गई है। उन्होंने कहा कि किसानों एवं युवाओं के हितों को ध्यान में रखते हुए प्रदेश सरकार द्वारा इस वर्ष को ”किसान वर्ष” एवं ”युवा वर्ष” के रूप में मनाया गया हैं। उन्होंने कहा कि हिन्दुस्तान में एक भी नदी ऐसी नहीं है जिसके तटों पर गोमती नदी लखनऊ की तरह रीवर फ्रंट बनाये गये है और जिसे एक साल में पूरा किया गया हो। उन्होंने बताया कि कोसी नदी पर 130 वर्ष पहले वर्ष 1885 में लालपुर बियर का निर्माण किया गया था जो काफी क्षतिग्रस्त हो गया है लोगों की मांग को देखते हुए यहाॅ पर नये बैराज का निर्माण किया जायेगा जिससे लगभग 31 किलोमीटर मुख्य नहर एवं 168 किलोमीटर रजवाहे व अल्पिकाओं में सिंचाई के लिए अतिरिक्त जल उपलब्ध हो सकेगा। साथ ही वार्षिक सिंचन 34155 एकड़ से बढ़कर 53929 हो जायेगी। इस प्रकार इस डैम से लगभग 19800 एकड़ भूमि की अतिरिक्त सिंचाई बढ़ जायेगी।


इस अवसर पर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री जावेद आब्दी अल्पसंख्यक आयोग के पूर्व सदस्य नसीर खां एवं जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह ने अपने विचार व्यक्त किये। कार्यक्रम में विभिन्न विद्यालयों के बच्चों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किया गया। कार्यक्रम में गणमान्य व्यक्ति एवं किसान बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top