Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

पश्चिम बंगाल में 91 वर्षीय 'चाचा जी' 11वीं बार लड़ रहे हैं चुनाव

 Sabahat Vijeta |  2016-04-10 15:07:02.0

West Bengalकोलकाता, 10 अप्रैल| पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में ज्ञान सिंह सोहनपाल सबसे बुजुर्ग उम्मीदवार हैं। वह 91 वर्ष की आयु में 11वीं बार चुनाव मैदान में उतरे हैं। 'चाचा जी' नाम से मशहूर सोहनपाल पश्चिमी मिदनापुर जिले के खड़गपुर सदर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ रहे हैं। इस विधानसभा क्षेत्र से वह सन 1982 से लगातार चुनकर विधानसभा में जाते रहे हैं।


वह पूर्व में राज्य के मंत्री और थोड़े समय के लिए विधानसभा अध्यक्ष भी रह चुके हैं। सोहनपाल का परिवार मूल रूप से पंजाब से संबंधित है, लेकिन सन 1900 के दशक की शुरुआत में बंगाल में आकर बस गया। अंग्रेजों को उखाड़ फेंकने लिए हुए भारत छोड़ो आन्दोलन के दौरान वह कांग्रेस में शामिल हुए थे।


आजाद भारत में सोहनपाल ने पहली बार विधानसभा चुनाव सन 1969 में जीता था। 1977 को छोड़कर सोहनपाल सभी चुनावी लड़ाइयों में कांग्रेस का झंडा ऊंचा रखे हुए हैं। 1977 में वाम दलों ने कांग्रेस का सूपड़ा साफ कर दिया था। सिर्फ उसी चुनाव में सोहनपाल हारे थे।


इस बार चुनाव में उनके खिलाफ भाजपा के दिलीप घोष और तृणमूल के रामप्रसाद तिवारी मैदान में हैं। कांग्रेस प्रत्याशी सोहनपाल को वाम दलों का समर्थन हासिल है। प्रदेश में इस बार विधानसभा चुनाव में कांग्रेस और वाम दलों के बीच चुनावी तालमेल बना है।


कभी मार्क्सवादियों के विरोधी रहे सोहनपाल कहते हैं कि वाम दलों के साथ चुनावी तालमेल आज लोकतंत्र की जरूरत है। वह कहते हैं, "राजनीति लोगों के लिए है और यह गठबंधन उनकी मांग और जरूरत है। तृणमूल को सत्ता से बाहर करने के लिए गठबंधन जरूरी है।"


सोहनपाल को चुनाव लड़ने की अपनी अद्भुत क्षमता पर गर्व है। वह 11 वीं बार विधानसभा चुनाव जीतने को लेकर आशावान हैं। वह कहते हैं, "मुझको खड़गपुर की जनता पर पूरा विश्वास है। वे कांग्रेस को कभी नीचा नहीं दिखाएंगे।"


भीषण गर्मी में थकाऊ चुनाव प्रचार के मद्देनजर जो लोग उन्हें प्रतिद्वंद्वी के रूप में खारिज करते हैं, उनको मुंहतोड़ जवाब देते हुए सोहनपाल कहते हैं, "91 वर्ष का होने पर मुझको गर्व है। मैं उन लोगों से ज्यादा सक्रिय हूं।"


लेकिन, उनके प्रतिद्वंद्वी उम्मीदवार दिलीप घोष इस बात पर जोर देते हैं कि युवा को उनकी जगह लेनी चाहिए। खड़गपुर सदर विधानसभा क्षेत्र में रोड शो के दौरान घोष ने कहा, "उनकी यह उम्र काम करने की नहीं है। खड़गपुर की जनता ने पहले ही घोषणा कर दी है कि यह समय उनके लिए आराम का है। मैं भी चाहता हूं कि वह आराम करें। वह मुझको आशीर्वाद दें और युवाओं को देश का नेतृत्व करने दें।"


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चुनावी सभा और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के रोड शो से खड़गपुर सदर विधानसभा क्षेत्र में चुनावी पारा ऊपर चढ़ गया है। यहां सोमवार को मतदान होगा।

  Similar Posts

Share it
Top