Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

मुस्लिम राष्ट्रीय मंच की बैठक में पहुंचे संघ प्रचारक

 Sabahat Vijeta |  2016-12-26 10:44:12.0

muslim-rashtriya-manch
लखनऊ. आरएसएस प्रचारक महिरज ध्वज सिंह आज मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के अवध प्रान्त के कार्यालय पर आयोजित पदाधिकारियों की बैठक में शामिल हुए. उन्होंने देश में तीन तलाक पर पैरवी करने वाले धर्मगुरुओं के बारे में मंच के पदाधिकारियों की राय माँगी. यहाँ मौजूद पदाधिकारियों ने कहा कि इस्लाम में कुरान और हदीस से बढ़कर कुछ नहीं है और सच्चा मुसलमान उसी की रोशनी में तलाक के तरीके को मानता है.


पदाधिकारियों ने कहा कि यह मामला सुप्रीम कोर्ट में है, इसलिए देश के संवैधानिक फैसले का स्वागत किया जायेगा. इस बैठक में महिरज ध्वज सिंह ने कहा कि विगत दिनों संगठन की राष्ट्रीय परिषद की बैठक आगरा में हुई थी, जिसमें मार्ग दर्शक इन्द्रेश कुमार ने अपनी घोषणा में कहा था कि रईस खॉ को अवध प्रान्त की जिम्मेदारी से हटाया जाता है और अब उन्हें प्रभारी पूर्वी उत्तर प्रदेश और उत्तराखण्ड के साथ-साथ राष्ट्रीय सह-संयोजक की जिम्मेदारी दी जाती है जो अब तक अवध प्रान्त के संयोजक थे, रिक्त स्थान पर सैयद हसन कौसर को यह ज़िम्मेदारी दी गई है जो पहले अवध प्रान्त के सह-संयोजक के रूप में काम कर रहे थे.


महिरज ध्वज ने बताया कि मुस्लिम राष्ट्रीय मंच अब पूरे प्रदेश में गरीब और यतीम बच्चो तथा तलाक शुदा उन बहिनों के बच्चों की शिनाख्त करने का अभियान तेज करे, जिनको रोजी-रोटी की परेशानी है, उनके बच्चो को संगठन गोद ले और उन्हें रहन-सहन तथा शिक्षा की व्यवस्था करे. इतना ही नहीं बल्कि प्रत्येक जिले में गरीब बस्तियों में जाकर वस्त्रों का वितरण करे, क्योंकि खुदा का आदेश है कि अपने आस-पड़ोस को किसी भी परेशानी में देखो तो उसकी मदद करो.


श्री सिंह ने कहा कि हमें खुशी है कि संगठन राष्ट्रहित पर काम कर रहा है तथा जिस प्रकार अब संगठन उत्तर प्रदेश के प्रत्येक जिले में मतदान करने के लिए बड़ी सभाओं को करने के लिये तैयारी कर रहा है, उससे यह लग रहा है कि मुसलमान अब तुष्टिकरण की राजनीति करने वालों के खिलाफ एकजुट हो चुका है.


बैठक में रईस खॉ ने बताया कि आगरा की राष्ट्रीय परिषद की दो-दिवसीय बैठक में अलग-अलग राज्यों से लोग आये थे. जिन्होंने बताया कि काला धन रखने वालों के चेहरों पर हवाईयॉ उड़ रही हैं, लेकिन इन एक दो महीनो में जो परेशानी हो रही है उससे कई गुना अधिक लाभ ईमानदार लोगों को होने वाला है, अब तक साधारण लोग हैं जो बेईमानों के शोषण से परेशान थे, उनके राहत मिलेगी. रईस ने बताया यह अकेले मेरे विचार नहीं बल्कि नोटबन्दी पर राष्ट्रीय परिषद के बैठक में झारखण्ड, आन्ध्र प्रदेश, पंजाब, जम्मू-कश्मीर, हिमांचल प्रदेश, पश्चिम बंगाल, गुजरात, उड़ीसा, कर्नाटक, तमिलनाडु, उत्तराखण्ड आदि प्रदशों के लोगों ने राष्ट्रीय परिषद की बैठक में स्वीकार किया है.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top