Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

इस तरह हाई वोल्टेज ड्रामा बना प्रीति का राज्यसभा के लिए नामांकन

 Tahlka News |  2016-05-31 10:37:14.0

preeti m

उत्कर्ष सिन्हा  

लखनऊ. यूपी से राज्य सभा की 11 सीटो के लिए नामांकन के आखिरी दिन मगलवार को गुजरात की रहने वाली प्रीति हरिहरन महापात्र ने 12 प्रत्याशी के रूप में अपना नामांकन दाखिल कर दिया. प्रीति के मैदान में आने से अब इन सीटो के लिए मतदान होना निश्चित हो गया है. इसके पहले समाजवादी पार्टी, बसपा, भाजपा और कांग्रेस के कुल 11 प्रत्याशी मैदान में थे.

यूपी की सियासत को गरमा देने वाली प्रीति महापात्र का नामांकन भी किसी हाई वोल्टेज ड्रामे से कम नहीं था. नामांकन के समय ही उन्हें समर्थन देने वाले पीस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डा. अयूब यह जानने के बाद कि प्रीति नरेन्द्र मोदी विचार मंच की राष्ट्रीय अध्यक्ष है, बिफर गए. डा. अयूब ने रिटर्निंग अफसर के समक्ष ही यह घोषणा कर दी कि यदि प्रीति भाजपा समर्थित उम्मीदवार  हैं तो वे अपना समर्थन वापस ले रहे हैं.


इस लिए भड़के डा. अयूब

दरअसल, प्रीति के नामांकन पत्र के दो सेट बनाये गए थे. पहले सेट में भाजपा के 6 विधायको और 4 अन्य विधायको के हस्ताक्षर थे. दूसरे सेट में भाजपा के विधायको के साथ डा. अयूब का नाम भी शामिल था. डा. अयूब की इस घोषणा के बाद अफरा तफरी मच गयी. प्रीति महापात्र का नामांकन कराने की कमान सम्हालने वाले भाजपा भाजपा विधायक दल के सचेतक डा. आरएमडी अग्रवाल ने मामला सम्हालने की कोशिश की.मगर डा. अयूब वहां से चले गए.

preeti m 1

इसके बाद नामांकन के दूसरे सेट में दो और विधायको के नाम जोड़ दिए गए, मगर रिटर्निंग अफसर ने इस पर आपत्ति जताई और सिर्फ 10 नामो को ही नामांकन पत्र में लिखने की बात कही. भाजपा विधान मंडल दल में व्यापक विचार विमर्श के बाद नया पर्चा भरा गया.

पत्रकारों के सवाल पर डा. अयूब ने पहले कहा कि प्रीति छोटे दलों के बनाये मोर्चे की उम्मीदवार हैं, जब उनसे तहलका न्यूज ने यह सवाल पूछा कि प्रीति भाजपा समर्थित हैं और वे नरेन्द्र मोदी विचार मंच चलाती हैं तो क्या आप भाजपा के साथ जाने को तैयार हैं. इस पर डा. अयूब ने सांप्रदायिक ताकतों के खिलाफ लडाई की अपनी प्रतिबद्धता का हवाला दिया. कभी नरेन्द्र मोदी को गुजरात के दंगो का जिम्मेदार ठहराने वाले डा.अयूब ने खुद को बचाते हुए आज कहा कि 2002 की घटना के समय वे राजनीति में ही नहीं थे.

सपा के बागी रहे सक्रिय

समाजवादी पार्टी के बागी विधायक रामपाल प्रीति महापात्र के नामांकन के लिए कल से सक्रिय दिखाई दे रहे थे. मंगलवार को नामांकन के समय भी रामपाल अपने समर्थको के साथ मुस्तैद रहे. रामपाल ने प्रीति के नामांकन पत्र पर हस्ताक्षर भी किए.

मीडिया के दबाव से भागी प्रीति महापात्र

नामांकन भरने के समय डा. अयूब के रवैयी के बाद इलेक्ट्रानिक मीडिया ने प्रीति महापात्र को घेर लिया. मीडिया के तीखे सवालों के घबराई प्रीति सेन्ट्रल हाल में चारो तरफ भागने लगी. बाद में भाजपा प्रवक्ता विजय बहादुर पाठक के हस्तक्षेप के बाद स्थिति नियंत्रित हुयी और प्रीति ने मीडिया के सवालों का जवाब दिया.

कौन हैं प्रीति

मूलतः गुजराती प्रीति हरिहरन महापात्र ने उडीसा के रहने वाले और मुम्बई के व्यवसायी हरी महापात्र से विवाह किया है. वे कृष्ण लीला फाउन्डेशन ना का एनजीओ चलाती है. इसके साथ ही वे नरेन्द्र मोदी विचार मंच से भी जुडी हैं. हालाकि आज उन्होंने विचार मंच से सम्बंधित सवालों के जवाब देने से इंकार कर दिया.

प्रीति ने कहा कि वे निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में आई हैं और उन्हें भाजपा का समर्थन भी मिल रहा है. हलाकि प्रीति के नामांकन में भाजपा विधानमंडल दल के नेताओं की सक्रियता साफ़ बता रही थी कि उन्हें इस दौड़ में भाजपा ही ले कर आई है.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top