Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

यूपी चुनाव: इन 5 कारणों से सपा हो सकती है सत्ता से बाहर

 Abhishek Tripathi |  2016-11-05 05:34:07.0

mulayam_akhileshतहलका न्यूज ब्यूरो
लखनऊ. समाजवादी पार्टी (सपा) शनिवार को रजय जयंती समारोह मना रही है। आज के दिन सपा शक्ति प्रदर्शन करेगी। वहीं, एक दिन पहले विजय रथ के जरिए सीएम अखिलेश यादव ने अपना शक्ति प्रदर्शन किया। वहीं, बीजेपी भी आज सहारनपुर जिले से परिवर्तन यात्रा की शुरुआत करेगी। सत्ता में काबिज सपा एक बार फिर सत्ता में आने की कोशिश में है। हालांकि, सत्ता में वापस आने की राह इतनी आसान नहीं है। कहा ये भी जा रहा है कि कई बड़ी घटनाओं की वजह से सपा का सत्ता में वापस आने का ख्वा अधूरा रह जाएगा।


चाचा-भतीजे की लड़ाई
यूपी में चाचा-भतीजे के बीच हुई तनातनी की वजह से पूरे प्रदेश में यह संदेश चला गया है कि पार्टी में कुछ भी सही नहीं है और पार्टी अभी स्थिर नहीं है। ऐसे में पार्टी को वोट देने से पहले जनता यह बात जरूर सोचेगी, क्योंकि चुनाव जीतने से पहले ही अगर पार्टी में पद को लेकर घमासान हो सकता है तो चुनाव जीतने के बाद ऐसा नहीं होगा यह कहना मुश्किल है।


5 साल में बढ़ा है क्राइम का ग्राफ
यूपी में अपराध लगातार बढ़ता जा रहा है। अगर सपा चुनाव हारती है तो इसके पीछे क्राइम भी बड़ा कारण होगा। गृह मंत्रालय नेशनल क्राइम ब्यूरो की तरफ से जारी किए गए आकड़ें ये बताते हैं कि अपराधों के मामरे में यूपी पहले स्थान पर है। यूपी जहां मायावती के शासनकाल में 3 अपराधों की श्रेणी में नंबर वन था तो वहीं समाजवादी सरकार में इंडिया में 5 अपराधों की श्रेणी में टॉप पर है। रेप, हत्या, चोरी, किडनैपिंग और दंगों की संख्या सपा के शासन काल में कम होने के बजाए बढ़ी है1 बुलंदशहर गैंगरेप कांड ने लोगों के मन में खासा डर पैदा कर दिया है।


दलितों पर बढ़े हैं अत्याचार
देश में हमेशा से होती आई वोट की राजनीति में दलित एक अहम हिस्सा रहा है, लेकिन आपको यह जानकर भी आश्चर्य होगा कि दलितों के खिलाफ हुए अपराधों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो की एक रिपोर्ट के मुताबिक दलितों से अपराध के कुल 8,358 मामले साल 2015 में दर्ज किए गए थे, तो वहीं साल 2014 में दलितों के साथ अपराध के 8,075 मामले दर्ज किए गए थे।


बिजली-पानी की समस्या
लोगों को जीवन में सबसे बड़ा रोल निभाते हैं बिजली और पानी। ये दोनों ही जीवन की मूलभूत आवश्यकता है। अगर बिजली के विषय पर बात करें तो नॉर्थ इंडिया में राजस्थान के बाद बिजली उत्पादन में यूपी का ही नाम आता है, लेकिन फिर भी लोगों को बिजली की खासा दिक्कत रहती है। लोगों को सही तरीके से बिजली नहीं मिल पा रही है। कई गांव आज भी अंधेरे में डूबे हैं। इसके साथ ही पानी की समस्या से भी लोगों को खासी दिक्कत होती है।


सपा कार्यकर्ताओं की गुंडई
सपा प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव पहले ही कह चुके हैं सपा में कुछ कार्यकर्ता गुंडई कर रहे हैं। लोगों की जमीनों पर अवैध कब्जे कर रहे हैं। सरकारी जमीनों पर भी अवैध कब्जे किए गए हैं। वहीं, कई बार ऐसी शिकायतें भी आई हैं जिसमें सपा कार्यकर्ताओं ने पुलिस प्रशासन के ही सामने गुंडई दिखाना शुरू कर दिया। कहा जा रहा है कि कार्यकर्ताओं की इस हुल्लड़बाजी की वजह से सपा सत्ता में वापस नहीं आ सकती है।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top