Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

गोरखपुर की मेयर को ढूंढ लाओ, 101 रुपए का नगद इनाम पाओ

 Tahlka News |  2016-05-15 07:19:46.0

bjp meyar


तहलका न्‍यूज ब्‍यूरो
गोरखपुर
. यूपी विधानसभा चुनाव से पहले सियासी दलों के बीच पोस्टर वार जारी है। इस बीच गोरखपुर में बीजेपी अल्पसंख्यक मोर्चा के द्वारा जारी पोस्‍टर चर्चा का विषय बना हुआ है। पोस्‍टर में बीजेपी ने अपनी ही पार्टी की मेयर के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। इस पोस्टर में मेयर को लापता बताया गया है।साथ ही उन्हें ढूंढ कर लाने वाले को 101 रुपए नगद पुरस्कार देने की बात कही गई है।


बता दें कि हालांकि भाजपा सांसद महंत योगी आदित्यनाथ ने भी सालभर पहले विकास कार्यों में लापरवाही से नाराज होकर मेयर डॉ. सत्या पांडे के खिलाफ मोर्चा खोला था और नगर निगम में धरने पर भी बैठ गए थे।

meyar 2

नगर निगम में गुंडाराज
पोस्टर की बाई तरफ कमल का फूल बना है तो वही ऊपर नगर निगम में गुंडाराज स्लोगन लिखा गया है। पोस्टर में बाई तरफ नीचे मेयर डॉक्टर सत्या पांडे का फोटो लगाया गया है। पोस्टर के दाहिनी और छोटे-छोटे स्लोगन लिखे गए हैं, जिसमें सांड के हमले में कई लोगों की मौत पर सवाल उठाए गए हैं और उनके परिवार वालों को मुआवजा देने की बात कही गई है। वहीं, सफाई कर्मचारियों की पूरी सूची डीएम कार्यालय को उपलब्ध कराने और हफ्ते में एक बार डीएम के सामने उनकी परेड कराने की बात भी कही गई है।


सीबीआई जांच की मांग
एक और स्लोगन में डोर टू डोर कचरा उठाने के नाम पर आमजन से धन उगाही बंद करने को कहा गया है. वही 20 साल से नगर निगम में काम कर रहे अधिकारी व कर्मचारियों के तबादले की मांग की गई है। इसके साथ ही पिछले 4 सालों में हुए विकास कार्यों की सीबीआई जांच कराने की मांग की गई है. वहीं एक स्लोगन में नगर निगम में होने वाले सारे टेंडर को समाचार पत्र में प्रकाशित करने की मांग की गई है।


meyar 3


मिलेगा 101 रुपए का नकद पुरस्कार 
बताते चले कि बीजेपी अल्पसंख्यक मोर्चा के कार्यकर्ता अपनी ही पार्टी की मेयर डॉ. सत्या पाण्डेय से नाराज है। उन्होंने आज बैंक रोड से टाउन हॉल स्थित नगर निगम गेट तक जलूस निकाला। इस दौरान कार्यकर्ताओं ने डॉ. सत्या पाण्डेय मुर्दाबाद के नारे लगाए। उनके हाथ में बैनर और पोस्टर थे, जिसे उन्होंने जगह-जगह चस्पा कर दिया। पोस्टर में भाजपा से नगर निगम की मेयर डॉ. सत्या पांडे को लापता बताया गया है और उनको ढूंढ कर लाने वाले को 101 रुपए का नकद पुरस्कार देने की बात कही गई है।


उनकी नाराजगी की वजह है मेयर द्वारा वार्डों का हाल न लेना। कार्यकर्ताओं का आरोप है कि भले ही मेयर भाजपा की है, लेकिन उनका फ़र्ज बनता है कि वह वार्डों का हाल जा कर लें। उन्होंने कहा कि 2012 के बाद से वो एक बार भी रसूलपुर वार्ड नंबर 55 का दौरा करने नहीं गईं, इसीलिए अल्पसंख्यक मोर्चा के कार्यकर्ता अपनी ही पार्टी की मेयर से नाराज है।


bd3a0aa0-e5c3-42a6-be07-dc940a8fddd5



इस संबंध में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के पूर्व प्रदेश कार्यसमिति सदस्य इरफान अहमद का कहना है कि भले ही मेयर डॉक्टर सत्या पांडे भाजपा की है, लेकिन यदि वह कार्य नहीं करेंगी, तो उनके खिलाफ मोर्चा खोलना स्वाभाविक है। उन्होंने कहा कि मेयर न तो वार्डों का दौरा करती है और न ही शहर के विकास से उनका कोई लेना-देना है. यही वजह है कि उनको लापता घोषित किया गया है और उन्हें ढूंढ कर लाने वाले को 101 रुपए का नगद पुरस्कार देने की घोषणा की गई है।


Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top