Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

Good News: 16.5 लाख राज्य कर्मियों, शिक्षकों का DA बढ़ा

 Abhishek Tripathi |  2016-06-14 01:24:29.0

up_governmentतहलका न्यूज ब्यूरो
लखनऊ. सरकार ने सूबे के लगभग 16.5 लाख राज्य कर्मचारियों, शिक्षकों व शिक्षणेत्तर कर्मचारियों के अलावा पेंशनरों को छह फीसद की बढ़ी हुई दर से महंगाई भत्ते (डीए) का भुगतान करने का फैसला किया है। कर्मचारियों को पहली जनवरी से मूल वेतन और पेंशनरों को पेंशन पर अनुमन्य महंगाई राहत के 125 फीसद की दर से डीए का भुगतान किया जाएगा।


31 मई तक दी जाने वाली बढ़े डीए की धनराशि कर्मचारियों के भविष्य निधि खाते (जीपीएफ) में जमा होगी जबकि पहली जून से दिये जाने वाले डीए का पहली जुलाई को नगद भुगतान होगा। मुख्यमंत्री की मंजूरी मिलने के बाद वित्त विभाग ने इस बारे में सोमवार को शासनादेश जारी कर दिया है।


इस फैसले का फायदा राज्य सरकार, सहायताप्राप्त शिक्षण व प्राविधिक शिक्षण संस्थानों और शहरी स्थानीय निकायों के सभी नियमित व पूर्णकालिक कर्मचारियों, कार्य प्रभारित कर्मचारियों और विश्वविद्यालय अनुदान आयोग वेतनमानों में कार्यरत पदधारकों को मिलेगा। शासनादेश के मुताबिक पहली जनवरी से 31 मई तक बढ़ी दर दिये जाने वाले डीए की जो धनराशि जीपीएफ में जाएगी उसे पहली जून से जीपीएफ में जमा माना जाएगा। उस पर पहली जून से भविष्य निधि पर लागू दर से ब्याज दिया जाएगा।


भविष्य निधि खाते में जमा की गई धनराशि 31 मई 2017 तक संबंधित कर्मचारी के खाते में जमा रहेगी और इसे उस तारीख से पहले निकाला नहीं जा सकेगा। ऐसे अधिकारी या कर्मचारी जिनका जीपीएफ खाता नहीं खुला है, उन्हें बढ़ी दर से डीए की अवशेष धनराशि राष्ट्रीय बचत पत्र (एनएससी) के रूप में दी जाएगी। नई पेंशन योजना के दायरे में आने वाले कर्मचारियों को डीए के एरियर के 10 प्रतिशत के बराबर राशि कर्मचारी के टियर-1 पेंशन खाते में जमा की जाएगी।


राज्य सरकार या नियोक्ता इसके बराबर अंशदान टियर-1 खाते में जमा करेगा। एरियर की बची हुई 90 प्रतिशत राशि कर्मचारियों को एनएससी के रूप में दी जाएगी। जिन अधिकारियों या कर्मचारियों की सेवाएं इस शासनादेश के जारी होने की तारीख से पहले खत्म हो गई हों या जो पहली जनवरी से लेकर शासनादेश जारी होने की तारीख तक सेवानिवृत्त हुए हों या छह महीने के अंदर रिटायर होने वाले हों, उनको डीए के बकाये की पूरी धनराशि का नगद भुगतान किया जाएगा। वहीं जिन कर्मचारियों का छठे वेतनमान के तहत पुनरीक्षण नहीं हुआ है, उन्हें पहली जनवरी से वेतन व महंगाई वेतन के योग के 245 प्रतिशत की दर से डीए दिया जाएगा।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top