Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

इलाहाबाद में गंगा-यमुना की दोहरी मार, 136 गाँव बाढ़ की चपेट में

 Anurag Tiwari |  2016-08-21 10:47:01.0

allahabad, floodsतहलका न्यूज ब्यूरो 

इलाहाबाद. धर्म नगरी काशी की तरह इलाहाबाद पर भी बाढ़ की मार पड़ रही है। यहां भयावह स्थिति यह है कि जिले में गंगा-यमुना दोनों नदियों के जलस्तर में बढ़ोतरी होने के चलते शहर चारों ओर से पानी से घिरा हुआ है।

जिले में बाढ़ प्रभावित गांवों की संख्या 117 से बढ़कर 136 हो गयी है। गंगा व यमुनापार के दर्जनों गांवों में पानी घुस गया है। फाफामऊ, गद्दोपुर, मोरहू, महमदपुर, जगदीशपुर पूरे चंदा, पैगम्बरपुर, इसी तरह यमुनापार के मेजा,खीरी, कोरांव, बारा तहसील के कई गांवों में जलभराव हो गया है। 84 बाढ़ चैकियों पर कर्मचारी मुस्तैदजनपद के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में 84 बाढ़ चौकियों पर कर्मचारी तैनात किए गये है।

शहर के फाफामऊ व छतनांग घाट पर यमुना का जलस्तर रविवार की सुबह भी बढ़ता रहा। शनिवार की रात से अब तक शहर व ग्रामीण क्षेत्र के शिविरों में छह हजार से अधिक शरणार्थी पहुंच चुके है। बाढ़ नियंत्रण केन्द्र के मुताबिक रविवार की सुबह लगभग दस बजे तक गंगा का जलस्तर में हुई वृद्धि के बारे में बताया जा रहा है कि फाफामऊ में प्रतिघंटे दो सेंटीमीटर और छतनांग घाट में दो सेंटी मीटर और यमुना भी खतरे का निशान पार कर चुकी है और जल स्तर में दो सेन्टीमीटर से अधिक बढ़ोत्तरी जारी है। शहर के छोटा बघाड़ा, सलोरी, शिवकुटी, मेहदौरी, नयागांव,बेलीगांव, राजापुर, गंगानगर, बेली कछार, नेवादा, अशोकनगर, गोविंदपुर,दारागंज, बलुआघाट, करेली गौसनगर के निचले इलाकों में एक हजार से अधिक मकान बाढ़ की जद में आ चुके हैं।



इसी तरह ग्रामीण क्षेत्रों में लोग लगातार शनिवार की रात भर अपना आशियाना खाली करने में जुटे रहे। पूरे जनपद में बाढ़ से प्रभावित क्षेत्र से छह हजार से अधिक की संख्या में लोगों ने बाढ़ राहत शिविरों में पहुंच चुके है। शनिवार की शाम जिले के यमुनापार इलाके से प्राप्त आकड़ो में 5 हजार से अधिक लोग राहत शिविरों में पहुंचे है। इसी तरह शहर क्षेत्र में शुक्रवार की रात लगभग दो हजार लोगों से अधिक लोगों ने शिविर में शरण ली है।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top