Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

यूपी चुनाव: 26 साल बाद गांधी परिवार का सदस्य जाएगा अयोध्या

 Abhishek Tripathi |  2016-09-09 03:16:15.0

rahul_gandhi_hanuman_garhiतहलका न्यूज ब्यूरो
अयोध्या. यूपी में कांग्रेस की किसान यात्रा से लोगों का दुख-दर्द जानने निकले राहुल गांधी शुक्रवार को अयोध्या पहुंचेंगे। वे यहां हनुमान गढ़ी दर्शन करने जाएंगे। करीब ढाई दशक से गांधी परिवार का कोई व्यक्ति अयोध्या नहीं गया है। राहुल की इस यात्रा को लेकर राजनीतिक गलियारों में काफी चर्चा है। स्थानीय नेताओं के मुताबिक 1990 में पूर्व प्रधानमंत्री स्व. राजीव गांधी अयोध्या गए थे। आज सबकी निगाहें राहुल गांधी की अयोध्या यात्रा पर होंगी, क्योंकि यहां राहुल हनुमान गढ़ी के दर्शन के लिए तो जाएंगे लेकिन, पास ही में करीब एक किमी की दूरी पर रामलला के दर्शन करते हैं या नहीं।राजनीति का केन्द्र रहा अध्योध्या


1990 के दशक से लेकर अब तक अयोध्या भले ही देश और प्रदेश की राजनीति का मुख्य केंद्र रहा हो लेकिन, यह इत्तेफाक ही है कि गांधी परिवार का कोई भी व्यक्ति 1992 में बाबरी मस्जिद ध्वस्त होने के बाद से यहां नहीं आया है। यूं तो सोनिया गांधी कई बार फैजाबाद चुनावी सभाओं में शिरकत करने आईं लेकिन, उनका अयोध्या जाना नहीं हो पाया।


अचानक जोड़ा अयोध्या का कार्यक्रम
राहुल गांधी किसान यात्रा के दौरान जब फ़ैज़ाबाद आए तो अचानक उनका अयोध्या और हनुमानगढ़ी में दर्शन का भी कार्यक्रम शामिल कर लिया गया। वैसे इस यात्रा में पहले अयोध्या का कार्यक्रम नहीं था। शुक्रवार को ही राहुल गांधी अयोध्या से अंबेडकर नगर जाते हुए किचौचा शरीफ दरगाह भी जाएंगे।


किसानों की समस्याओं पर कर रहे चर्चा
इससे पहले गुरुवार को देवरिया से दिल्ली तक किसान यात्रा पर निकले राहुल गांधी ने बस्ती जिले में पांच घंटे से अधिक समय तक रोड शो किया। इस दौरान उन्होंने कई जगह लोगों को संबोधित किया। राहुल गांधी ने गन्ना किसानों की बर्बादी, किसानों की अन्य समस्याओं और बिजली की खऱाब व्यवस्था के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि चौबीस घंटे बिजली और विदेशों से काला धन का वादा किया गया था, लेकिन कोई वादा पूरा नहीं हो सका। राहुल गांधी ने बस्ती जिले के एक गांव में कुछ दलित परिवारों से भी मिले और उनके यहां खाना खाया। कांग्रेस उपाध्यक्ष की किसान यात्रा के तीन दिन हो चुके हैं। प्रदेश कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेताओं के अलावा उनके साथ कांग्रेस महासचिव ग़ुलाम नबी आजाद भी थे।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top