Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

इस गांव को मिला है ऐसा अभिशाप, मुक्ति के करना होता है दूसरा ब्याह

 Anurag Tiwari |  2016-07-18 13:06:54.0

BARMER, RAJSTHAN, POLYGAMY, CURSEतहलका न्यूज डेस्क

भारतीय संविधान ने यूं तो दो शादियों को कानूनी अपराध माना है लेकिन राजस्थान में एक ऐसा गांव है जहाँ अभिसाह्प के आगे कानून भी तोड़ दिया जाता है। अगर इस गांव के लोगों के लिए कानून तोड़ना एक मजबूरी बन चुकी है।

इस गांव में हर पुरुष की दो पत्नियां हैं। यह गांव है राजस्थान में बाड़मेर जिले के देरासर गांव जहां की पूरी आबादी मुसलमानों की है। इस गाँव में 70 मुस्लिम परिवार रहते हैं। इन सभी परिवारों के पुरुष दूसरी शादी की परंपरा को निभाते चले आ रहे हैं।


इस गाँव के लोगों की दूसरी शादी करने के पीछे का कारण बेहद चौंकाने वाला है। यहां का इतिहास रहा है कि गांव में किसी भी पुरुष को पहली पत्नी से संतान प्राप्ति नहीं हुई है। संतान प्राप्ति के लिए दूसरी शादी करना इनकी मजबूरी बन गई है। दिलचस्प बात यह है कि दूसरी पत्नी के आने के बाद से हर परिवार में संतान हुई है। इस परंपरा को गांव के लोग खुदा की मेहर बताते हैं। गांव में कुछ परिवारों ने इसे अंधविश्वास मान एक ही शादी की लेकिन उन्हें कभी संतान का सुख नहीं मिल सका। उन परिवारों की हालत देखते हुए इस गांव में हर आदमी की दो शादियां करवाई जाती है। एक दिलचस्प पहलू यह भी है है कि इस गांव के किसी परिवार में पहली पत्नी को अपने पति की दूसरी पत्नी को कभी कोई समस्या नहीं हुई है।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top