Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

35 किमी प्रति घंटा होगी मेरठ मेट्रो की स्पीड, बनेंगे 32 स्टेशन

 Tahlka News |  2016-05-09 06:32:11.0

metro_1462436544

तहलका न्‍यूज ब्‍यूरो
लखनऊ: लखनऊ मेट्रो रेल कॉरपोरेशन के एमडीए कुमार केशव के साथ विशेषज्ञों की एक टीम 11 मई को मेरठ मेट्रो की डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट जांचने के लिए शहर का दौरा करेगी। मेरठ मेट्रो में दो कॉरिडोर प्लान किए गए हैं। विशेषज्ञ मेरठ मेट्रो के परतापुर-पल्लवपुरम और श्रद्धापुरी-गोकुलपुर ट्रैक के एलाइनमेंट, प्रस्तावित स्टेशनों, पार्किंग स्पेस, डिपो आदि की जगहों की फिजिबिलिटी राइट्स की डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट के आधार पर चेक करेगी। मेट्रो के दोनों कॉरिडोर के लिए 32 स्टेशन तय किए गए हैं।


35 किमी प्रति घंटा होगी मेट्रो की स्पीड
परतापुर से पल्लवपुरम के बीच मेट्रो ट्रेन हर चार मिनट में मिलेगी तो श्रद्धापुरी से गोकलपुर के बीच हर पांच मिनट में सर्विस होगी। मेट्रो ट्रेन में तीन कोच होंगे। न्यूनतम किराया 15 रुपये और अधिकतम 42 रुपये होगा। शहर में मेट्रो की औसत स्पीड 35 किमी प्रतिघंटा होगी।

मेट्रो स्टेशनों की जगह, पार्किंग और ट्रैक के बारे में राइट्स ने रिपोर्ट दी है। इसी के आधार पर टीम 11 मई को मेरठ में दोनों कॉरिडोर के प्रस्तावित स्टेशन, पार्किं ग आदि की जगह देखेगी। यह टीम मेरठ मेट्रो के परतापुर-पल्लवपुरम और श्रद्धापुरी-गोकुलपुर ट्रैक के एलाइनमेंट को रिपोर्ट के आधार पर चेक करेगी।

इसके अलावा प्रस्तावित स्टेशनों, पार्किंग स्पेस, डिपो आदि जगहों की फिजिबिलिटी, राइट्स की डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट के आधार पर चेक करेगी। इसके पूर्व में 4 मई को लखनऊ मेट्रो रेल कॉरपोरेशन के एमडी कुमार केशव के सामने राइट्स के विशेषज्ञों ने मेरठ मेट्रो की डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट का प्रजेंटेशन दिया था।

राइट्स के डीपीआर में कॉरिडोर-1 के प्रस्तावित स्टेशन मोदीपुरम, पल्लवपुरम, गुरुकुल डौरली, सोफीपुर, लेखानगर, बेगमपुल, भैंसाली, रेलवे रोड चैराहा, बागपत रोड चैराहा, ब्रह्मपुरी, माधवपुरम, संजय वन, शताब्दीनगर, रिठानी, डीएन पॉलिटेक्निक, परतापुर।

वहीं कॉरिडोर-2 के प्रस्तावित स्टेशन श्रद्धापुरी, कंकरखेड़ा, कैंट रेलवे स्टेशन, मिल्रिटी अस्पताल, रजबन, बाजार, बेगमपुल, बच्चा पार्क, शाहपीर गेट, हापुड़ अड्डा चौराहा, गांधी आश्रम, मंगलपांडे नगर, तेजगढ़ी, मेडिकल कॉलेज, जागृति विहार एक्सटेंशन, गोकलपुर डिपो हैं।

जमीन नहीं बनेगी मेट्रो की राह में अड़चन
विशेषज्ञों का मानना है कि मेरठ में जमीन मेट्रो की राह में अड़चन नहीं बनेगी। जहां पार्किंग स्पेस नहीं होगा वहां पिकअप एंड ड्रॉप सिस्टम चलेगा। ऐसे स्टेशन जहां यात्रियों की संख्या ज्यादा होगी वहां पार्किंग आदि की जगह निकाली जाएगी।

भैंसाली और बच्चा पार्क स्टेशन पर होगा दबाव
शहर में मेट्रो के भैंसाली स्टेशन पर यात्रियों का सबसे ज्यादा दबाव होगा। यहां पीक आवर में औसतन 15 हजार यात्री होंगे। दूसरे नंबर पर सबसे ज्यादा दबाव बच्चा पार्क स्टेशन पर होगा। बच्चा पार्क पर औसतन 11 हजार यात्री पीक आवर में मेट्रो में उतरेंगे-चढ़ेंगे।

भैंसाली और सोराहब गेट होंगे बाहर
लखनऊ मेट्रो रेल कॉरपोरेशन अफसरों ने मेरठ में भी मेट्रो ट्रेन के लिए मेंटीनेंस वर्कशॉप स्थापित करने के लिए 20 से 25 एकड़ जमीन की डिमांड की है। यह जमीन बागपत रोड या फिर गंगानगर के निकट होगी। भैंसाली और सोहराब गेट डिपो शहर के बाहर शिफ्ट करने होंगे। इन पर मेट्रो स्टेशन डेवलप किए जाएंगे।

ये हैं प्रस्तावित स्टेशन :
कॉरिडोर-1  मोदीपुरम से परतापुर।
मोदीपुरम, पल्लवपुरम, गुरुकुल डोरली, सोफीपुर, लेखानगर, बेगमपुल, भैंसाली, रेलवे रोड चौराहा, बागपत रोड चौराहा, ब्रह्मपुरी, माधवपुरम, संजय वन, शताब्दीनगर, रिठानी, डीएन पॉलिटेक्निक, परतापुर।

कॉरिडोर- 2 श्रद्धापुरी से गोकलपुर
श्रद्धापुरी, कंकरेखड़ा, कैंट रेलवे स्टेशन, मिलिट्री अस्पताल, रजबन बाजार, बेगमपुल, बच्चा पार्क, शाहपीर गेट, हापुड़ अड्डा चौराहा, गांधी आश्रम, मंगल पांडे नगर, तेजगढ़ी, मेडिकल कॉलेज, जागृति विहार एक्सटेंशन, गोकलपुर, डिपो।

फैक्ट फाइल :
20 फरवरी 2015 को हुआ था मेरठ में पहला सर्वे
2021 में दौड़ेगी मेरठ मेट्रो जमीन  पर
11 माह से कम समय में तैयार हुई डीपीआर

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top