Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

नोटबन्दी के 50 दिन बीतने के बाद की स्थितियों की समीक्षा करेगी कांग्रेस

 shabahat |  2017-01-02 12:42:31.0

navjot kaur sidhu


लखनऊ. केन्द्र की मोदी सरकार ने 8 नवम्बर 2016 को पूरे देश में नोटबन्दी की थी जिससे आम जनमानस को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. आम जनमानस में नोटबन्दी से व्यापक आक्रोश व्याप्त है. नोटबन्दी के विरोध में आयोजित जनआक्रोश आन्दोलन हेतु आगे की रणनीति तय किये जाने के उद्देश्य से एक आवश्यक बैठक आगामी 4 जनवरी को दोपहर 12 बजे से उ.प्र. कांग्रेस कमेटी मुख्यालय प्रांगण, नेहरू भवन 10 माल एवेन्यू, लखनऊ में आयोजित की गयी है. बैठक में उ.प्र. कांग्रेस कमेटी के वरिष्ठ उपाध्यक्षों, प्रदेश पदाधिकारियों / कार्यकारिणी सदस्यों / विशेष आमंत्रित सदस्यों, जिला / शहर कांग्रेस कमेटी के अध्यक्षों एवं फ्रन्टल संगठन/विभाग/प्रकोष्ठों के प्रदेश प्रमुखों एवं प्रदेश कांग्रेस के मीडिया विभाग के सभी पदाधिकारियों को विशेष आमंत्रित सदस्य के रूप में आमंत्रित किया गया है.


प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता वीरेन्द्र मदान ने बताया कि बैठक में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव-प्रभारी उ.प्र. गुलाम नबी आजाद, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राजबब्बर सांसद, प्रदेश की मुख्यमंत्री पद की प्रत्याशी श्रीमती शीला दीक्षित, समन्वय समिति के चेयरमैन एवं सांसद प्रमोद तिवारी, प्रचार अभियान के चेयरमैन एवं सांसद डॉ. संजय सिंह, अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सभी उ.प्र. के सहप्रभारी सचिवगण, कांग्रेस विधानमंडल एवं विधान परिषद दल के नेता आदि उपस्थित रहेंगे.


श्री मदान ने बताया कि नोटबन्दी के सम्बन्ध में प्रधानमंत्री ने देश की जनता से 50 दिन का समय मांगा था परन्तु 50 दिन से अधिक दिन बीत जाने के बावजूद आज भी स्थिति ज्यों कि त्यों बनी हुई है. आम जनमानस बैंक एवं ए.टी.एम. की लाइन में खड़ा है.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top