Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

BJP नेता गलत आंकड़े देकर कर रहे हैं यूपी का अपमान: राजेन्द्र चौधरी

 Avinash |  2017-02-07 16:49:32.0

BJP नेता गलत आंकड़े देकर कर रहे हैं यूपी का अपमान: राजेन्द्र चौधरी

तहलका न्यूज़ ब्यूरो
लखनऊ. समाजवादी पार्टी के मुख्य प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने पार्टी मुख्यालय में आयोजित प्रेस कांफ्रेस में कहा कि, उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में विपक्षी दल झूठे और अनर्गल प्रलाप कर रहे है। भारतीय जनता पार्टी के नेता और स्वयं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी उत्तर प्रदेश के विषय में जिस प्रकार अपनी रणनीति के तहत भ्रामक आंकड़े दे रहे हैं, वह उत्तर प्रदेश की जनता का अपमान है। भाजपा शासित राज्यों में लचर कानून व्यवस्था सहित बढ़ते आपराधिक आंकड़ों की गवाह भारत सरकार का नेशनल क्राइम ब्यूरो की रिपोर्ट है। बावजूद इसके भाजपा लगातार मतदाताओं को गुमराह करने का प्रयास कर रही है।
भाजपा की केन्द्र सरकार ही यांत्रिक कत्लगाहों के आयात-निर्यात का लाइसेंस जारी करती है, यह जानते हुये भी भाजपा यूपी के घोषणापत्र में यांत्रिक कत्लगाहों की समाप्ति की बात करती है। जो भाजपा के दोहरे चरित्र को ही दर्शाता हैं।
उत्तर प्रदेश में बीते पांच वर्षों के कार्यकाल में अखिलेश यादव ने उत्तर प्रदेश का सभी क्षेत्रों में विकास किया हैं। अपराधमुक्त समाज स्थापित करने के साथ सड़कों का जाल फैलाकर रोजगार सृजन के अनेक अवसर उत्पन्न करने का कार्य समाजवादी सरकार में हुआ है। समाजवादी पेंशन के माध्यम से 55 लाख गरीब परिवारों को राहत पहुंचाने का कार्य पूरे देश में एक नजीर बन चुका है। सपा-कांग्रेस गठबंधन के बलबूते अखिलेश यादव को दुबारा मुख्यमंत्री बनाने के लिये पूरे प्रदेश में जनता का अपार समर्थन मिल रहा है।
मुख्यमंत्री की लोकप्रियता से बसपा सुप्रीमों की बौखलाहट भी खुलकर सामने आ रही हैं। भाजपा के समर्थन से यूपी की मुख्यमंत्री रहने के साथ ही साथ गुजरात में नरेन्द्र मोदी के पक्ष में प्रचार करने वाली बसपा प्रमुख की असलियत को अलपसंख्यक समाज बखूबी जानता है। बसपा की जन विरोधी नीतियों की वजह से पिछले विधानसभा चुनाव में जनता ने बहुजन समाज पार्टी का सफाया कर दिया था। एक ओर बसपा ने अपने शासन काल में कोई भी जनहित का काम नहीं किया, लेकिन अखिलेश सरकार के विकास कार्यों को अपना बता कर जनता को गुमराह कर रही है। बसपा-भाजपा भाई-बहन के अटूट रिश्ते से बंधे हुये है। दोनों दलों में होड़ लगी है कि ज्यादा से ज्यादा साम्प्रदायिकता और जातिवाद का इस चुनाव में इस्तेमाल कर मतदाताओं को भ्रमित कर चुनाव को प्रभावित किया जाए। यह भी सच्चाई है कि जमीनों का कारोबार बसपा ने किया था। खजाने की लूट और पत्थरों पर अपव्यय किया गया जिसमें भारी कमीशनखोरी हुयी। पांच साल तक जनता का रूपया पत्थरों में लगाने वाली बसपा की असलियत को जनता समझ चुकी है। दंगों का झूठा आंकड़ा बताकर बसपा प्रमुख भाजपा जैसे साम्प्रदायिक पार्टी को बचाने में लगी है।
समाजवादी पार्टी सामाजिक आधार पर आरक्षण की पक्षधर है। समाजवादियों ने डा. लोहिया के जमाने से सामाजिक न्याय के लिए आरक्षण दिलाने का संघर्ष किया है। उत्तर प्रदेश की जनता जागरूक है। अखिलेश यादव के नेतृत्व में समाजवादी नीतियों से जनता की भलाई हुयी है। जनता का पूरा भरोसा सपा-कांग्रेस गठबंधन में मजबूत हो रहा है। जिनके नेतृत्व में राजनीति नया मोड़ ले रही है। यह चुनाव देश की राजनीतिक दिशा तय करेगा। जनता अखिलेश यादव के पक्ष में चुनावी परिणाम देकर लोकतंत्र को साम्प्रदायिक और जातिवादी ताकतों से मुक्त करायेगी।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top