Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

यूपी चुनाव: बलिया की इस सीट पर होगा त्रिकोण मुकाबला, नहीं है बीजेपी-कांग्रेस का उम्‍मीदवार

 Girish |  2017-02-28 05:04:09.0

यूपी चुनाव: बलिया की इस सीट पर होगा त्रिकोण मुकाबला, नहीं है बीजेपी-कांग्रेस का उम्‍मीदवार

तहलका न्‍यूज ब्‍यूरो
बलिया. उत्‍तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के पांच चरणों के मतदान हो चुके हैं। बचे हुए दो चरणों की वोटिंग पूर्वांचल क्षेत्र में 4 और 8 मार्च को होगी। इन चरणों में जीत के लिए सभी दलों ने अपनी पूरी ताकत झोक दी है। वहीं, इस फेज में बलिया की एक सीट ऐसी भी है जहां पहली बार बीजेपी और कांग्रेस के उम्‍मीदवार हीं नही हैं। लेकिन फिर भी इस सीट पर त्रिकोण मुकाबला होने की बात कही जा रही है।

पहचान एक चुनौती

दरअसल, पूर्वांचल के जातीय समीकरण को देखते हुए यूपी विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा (भारतीय जनता पार्टी) ने राजभरों की क्षेत्रीय पार्टी भासपा (भारतीय समाज पार्टी) से गठबंधन किया है। जिसके बाद बलिया की बांसडीह सीट भासपा के खाते में चली गई है। यहां के कैंडिडेट भासपा के ही राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर हैं, जो इस इलाके के नहीं हैं और वो पहली बार चुनाव मैदान में हैं। इस वजह से पहचान की एक चुनौती उनके सामने है। हालांकि, वे कहते हैं कि जनता उन्हें जिताएगी।

कांग्रेस का था दबदबा
वहीं, समाजवादी पार्टी(सपा) और कांग्रेस ने भी गठबंधन किया है, जिसके बाद ये सीट सपा के खाते में चली गई है। बता दें कि यूपी के छठें फेज के लिए 7 जिलों की 49 सीटों पर 4 मार्च को मतदान होगा। इसमें भी शामिल है। हालांकि, बासंडीह सीट को कांग्रेस का गढ़ माना जाता रहा है। इस विधानसभा क्षेत्र में कभी कांग्रेस के कद्दावर नेता बच्चा पाठक का दबदबा था। उन्होंने 1969 से 7 बार इस सीट पर जीत हासिल की।

केतकी सिंह इस बार निर्दलीय चुनाव मैदान में
इसके बाद इस सीट पर सपा नेता रामगोविंद चौधरी ने अपना दबदबा कायम किया। वे यहां 2002 में चुनाव जीते और मुलायम मंत्रिमंडल में मंत्री भी रहे, लेकिन 2007 में चुनाव हार गए। हालांकि, रामगोविंद चौधरी 2012 में दोबारा सपा से जीते और मंत्री बने। वे हमेशा कांग्रेस के खिलाफ लड़ते रहे। इस बार भी कांग्रेस के कई दावेदार थे, लेकिन ये सीट अलायंस के चलते उनके पास ही रही। इस बीच बलिया की बांसडीह सीट पर 2012 के चुनाव में दूसरे स्थान पर रहीं बीजेपी की कैंडिडेट केतकी सिंह इस बार निर्दलीय ही चुनाव मैदान में हैं। ऐसे में ये मुकाबला काफी दिलचस्प हो गया है।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top