Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

पाकिस्‍तान नहीं बंटा होता तो मैं प्रधानमंत्री होता: आजम खान

 Girish |  2017-02-06 05:34:22.0

पाकिस्‍तान नहीं बंटा होता तो मैं प्रधानमंत्री होता: आजम खान

तहलका न्‍यूज ब्‍यूरो
लखनऊ: अखिलेश सरकार में कैबिनेट मंत्री और रामपुर से सपा प्रत्‍याशी आजम खान ने एक बार फिर विवादित बयान दिया है। उन्‍होंने पीएम नरेंद्र मोदी की तुलना रावण से किया है। पीएम मोदी पर हमला बोलते हुए आजम ने कहा कि दिल्ली में बैठा एक शख्स रावण दहन के लिए लखनऊ आता है, लेकिन वो भूल जाता है कि असली रावण तो दिल्ली में ही रहता है। साथ ही

आजम ने कहा कि अगर पाकिस्‍तान नहीं बंटा होता तो मैं प्रधानमंत्री होता। उन्‍होंने कहा कि अगर देश नहीं बंटा हो तो मैं हिंदू-मुस्लिम में एकता होती। आजम ने कहा कि लोग खुद देखें देश का बादशाह लोगों को कैसे ठग रहा है। बीजेपी के 40 फीसद प्रत्‍याशियों ने अपराध का एफि‍डेविट दिया। बीजेपी ने शिष्‍या के बलात्‍कारी को भी टिकट दिया।

आजम खान ने पीएम मोदी का नाम लिए बगैर कहा कि 131 करोड़ भारतीयों पर शासन करने वाले राजा रावण का पुतला दहन करने लखनऊ आए, लेकिन वह भूल गए कि सबसे बड़ा रावण लखनऊ में नहीं, बल्कि दिल्ली में रहता है।

रामपुर में एक चुनाव रैली को संबोधित करते हुए खान ने मोदी को आड़े हाथ लिया और आरोप लगाया कि पीएम मोदी ने अमीरों के हितों के लिए काम कर रहे हैं। उन्होंने विकास कार्यों को जारी रखने को लेकर अपनी पार्टी के लिए वोट देने की भी लोगों से अपील की।

आजम के इस विवादित बयान पर बीजेपी ने पलटवार करते हुए कहा है कि आजम के बयान से ये साफ झलक रहा है कि समाजवादी पार्टी यूपी में चुनाव से पहले ही हार मान चुकी है। बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कि आजम खान घबराहट में ऐसे बयान दे रहे हैं। वो यूपी चुनाव में अपनी पार्टी हार मान चुके हैं। वहीं, यूपी में सपा के साझेदार बनी कांग्रेस का कहना है कि किसी शख्स के बारे में बोलने से पहले मर्यादा का ध्यान रखना चाहिए।

वहीं, कांग्रेस नेता शकील अहमद ने कहा कि रावण बुराई का एक प्रतीक है और स्वाभाविक रूप से बुराई पर अच्छाई की विजय होनी चाहिए। चुनाव के समय आवेग में अक्सर नेता ऐसे बयान देते हैं, लेकिन मैं समझा हूं कि भाषा की मर्यादा का भी हमें ख्याल करना चाहिए।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top