Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

यूपी चुनाव: रीता बहुगुणा जोशी ने बीजेपी ज्‍वाइन की

 Girish Tiwari |  2016-10-20 09:29:46.0

रीता बहुगुणा जोशी बीजेपी में हुईं शामिल, पीएम मोदी की तारीफों के पुल बांधे


तहलका न्‍यूज ब्‍यूरो
दिल्‍ली:
 यूपी में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले अपनी सियासी जमीन तलाश करने में जुटी कांग्रेस को एक बड़ा झटका लगा है। उत्तर प्रदेश कांग्रेस पार्टी की कद्दावर महिला नेता रीता बहुगुणा जोशी ने गुरुवार को बीजेपी ज्‍वाइन कर ली। बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह ने रीता और उनके बेटे मयंक को बीजेपी ज्‍वाइन कराई। इस दौरान रीता ने कहा कि बहुत सोच समझकर बीजेपी में शामिल हुई हूं। राष्‍ट्र और प्रदेश के हित में कांग्रेस को छोड़ा है। रीता ने बताया कि उन्‍होंनेे विधायक पद से भी इस्‍तीफा दे दिया है। बता दें कि रीता बहुगुणा जोशी लखनऊ कैंट सीट से विधायक हैं।


रीता ने पीएम मोदी की तारीफ करते हुए कहा कि उन्‍होंने आतंकवाद के खिलाफ बहुत सही काम किया है। सेना सक्षम है, पीएम मोदी ने सेना का साथ दिया। सर्जिकल स्‍ट्राइक सरकार के लिए बड़ी उपलब्धि है। रीता बहुगुणा जोशी ने सर्जिकल स्ट्राइक पर राहुल गांधी के बयान पर सवाल उठाए। राहुल के बयान ने पार्टी छोड़ने के लिए प्रेरित किया। रीता ने कहा कि राहुल बातों को नहीं समझते हैंं। राहुल मे क्षमता नही है। राहुल ने दुनिया में भारत की साख गिराई। राहुल के खून की दलाली के बयान से दर्द हुआ। राहुल गांधी ने अनुचित बयान दिया। उन्‍होंने कहा कि सोनिया बात सुनती थी।कांग्रेस मे विचारों की अभिव्यक्ति का अधिकार नहीं है। पीके बताते हैं क्या, कब, कितना और क्‍या बोलना है। प्रशांत किशोर उठने, बैठने तक के लिए बताते थे। प्रशांत किशोर हम लोगों को राजनीति सिखा रहे थे।


उन्‍होंने कहा कि कांग्रेस और सपा के चंगुल से यूपी को बचाना है। कांग्रेस की कमजोरियों पर ध्यान नहीं दिया गया। उन्‍होंने कहा कि यूपी में हर विभाग मे माफियाराज है। खनन, भूमि, शराब माफिया यूपी में हावी हैं। जातिवाद का जहर यूपी मे बोया गया है।


बता दें कि, रीता बहुगुणा जोशी ब्राह्मण समुदाय से हैं और पार्टी के ब्राह्मण चेहरों में सबसे आगे हैं। जानकार इसे यूपी चुनाव से पहले कांग्रस के लिए ये तगड़ा झटका मान रहे हैं।


ये है वजह
सूत्रों की माने तो रीता बहुगुणा जोशी का यूपी विधानसभा चुनाव से ठीक पहले पार्टी बदलने की दो वजह हो सकती हैं। एक तो उनको यह भरोसा नहीं हो पा रहा है कि कांग्रेस विधानसभा चुनाव तक इस स्थिति में पहुंच ही जाएगी, जिसके सहारे चुनाव जीता जा सके। साथ ही दूसरा ये की रीता बहुगुणा जोशी वर्तमान में लखनऊ कैंट से विधायक हैं। वहीं, समाजवादी पार्टी के टिकट पर यादव परिवार से ही सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव की छोटी बहु अपर्णा यादव को प्रत्याशी बनाए जाने की चर्चा हो रही है। ऐसे में लखनऊ कैंट सीट पर जीत की संभावनाएं बीजेपी के टिकट से ही बन रही है।
छोटे भाई पहले ही ज्‍वाइन कर चुकेे है बीजेपी
इसकेे अलावा रीता बहुगुणा जोशी एक बड़े सियासी परिवार से ताल्लुक रखती हैं। लेकिन जब से रीता के छोटे भाई और उत्‍तराखंड के पूर्व सीएम विजय बहुगुणा ने बीजेपी ज्‍वाइन कर लिया है। उस समय से बहुगुणा परिवार को लेकर कांग्रेस आलाकमान में विश्वास का संकट पैदा हुआ है।

कौन है रीता बहुगुणा जोशी
रीता बहुगुणा जोशी का जन्म 22 जुलाई 1949 को हुआ। रीता बहुगुणा को राजनीति विरासत में मिली है। उनके पिता हेमवती नंदन बहुगुणा उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके हैं और उनकी मां कमला बहुगुणा सांसद रह चुकी हैं। रीता बहुगुणा जोशी इतिहास में इलाहाबाद यूनिवर्सिटी से पीएचडी हैं। रीता बहुगुणा उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमिटी की प्रेज़िडेंट रह चुकी हैं। वह 2003-2008 तक ऑल इंडिया महिला कांग्रेस की प्रेज़िडेंट रह चुकी हैं। रीता बहुगुणा ने 2 बार लोकसभा का चुनाव लड़ा लेकिन दोनों बार उन्हें हार नसीब हुई। वर्तमान में रीता लखनऊ कैंट सीट से विधायक हैं। रीता बहुगुणा जोशी ने वर्ष 2014 में लखनऊ लोकसभा का चुनाव हारने के बाद प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफ़ा दे दिया था.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top