Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

खून से चिठ्ठी लिखने वाली बुलंदशहर की बेटियों से अखिलेश ने की मुलाकात

 Girish Tiwari |  2016-08-13 08:18:17.0

akhilesh_yadav

तहलका न्‍यूज ब्‍यूरो
लखनऊ:
यूपी के सीएम अखिलेश यादव ने शनिवार को बुलंदशहर की दो बेटियों से मुलाकात की। साथ ही पांच-पांच लाख रुपये, एक फ्लैट, पढ़ाई का खर्च, मामा को सरकारी नौकरी, कैंसर पीड़ित नानी के इलाज का खर्चा उठाने का आश्वासन दिया।

सीएम अखिलेश यादव ने आधे घंटे तक लतिका बंसल, तानिया बंसल और उसके मामा और नानी से मुलाकात कर पूरी आपबीती सुनी और आश्वासन दिया की आरोपियों को सजा दी जाएगी।

बतातेे चले कि यूपी के बुलंदशहर जिले की एक 15 साल की लड़की ने सीएम अखिलेश यादव को अपने खून से खत लिखा। इस खत के जरिए मासूम लड़की अपनी मां के कातिलों को पकड़वाना चाहती है। लड़की का नाम लतिका बंसल है। आरोप है कि उसकी मां को उसके पिता और बाकी घर वालों ने सिर्फ इसलिए जलाकर मार डाला क्योंकि वह उन्हें लड़का नहीं दे पा रही थी। लतिका ने खत में कहा कि उसकी मां जिसका नाम अनु बंसल था, उन्हें 14 जून को उसके और उसकी छोटी बहन के सामने ही जिंदा जला दिया गया था। उसकी छोटी बहन की उम्र 11 साल है।


लतिका ने अपने खत में यह भी बताया कि उसने मदद के लिए 100 नंबर पर कॉल किया था और एंबुलेंस को भी बुलाने की कोशिश की थी लेकिन कोई नहीं आया। लतिका ने खत में लिखा है कि वह अपनी मां को किसी अंकल की मदद से हॉस्पिटल लेकर पहुंची थी। लेकिन तबतक वह 95 प्रतिशत जल चुकी थी। इस वजह से उन्हें बचाया नहीं जा सका।

लतिका ने खत में लिखा, ‘मैं वह सब नहीं भूल सकती जो मैंने देखा। मेरी मां को मेरे सामने जला दिया गया। मैं पिछले 15 सालों से देख रही थी कि मेरी मां को लड़का ना पैदा कर पाने की वजह से परेशान किया जाता था। मेरी बहन के पैदा होने पर हमें घर से भी निकाल दिया गया था। हम लोग किराए पर रहे थे। 14 जून की रात मेरी दादी और कुछ रिश्तेदार घर में घुस आए और कहने लगे कि वे मेरे पिता की किसी ऐसी महिला से शादी करवाएंगे जो उन्हें लड़का दे सके। फिर कहासुनी होने लगी और उन्होंने मेरी मां को आग लगा दी। मेरी बहन लगातार रो रही थी लेकिन मुझे किसी तरह हिम्मत करके 100 नंबर पर कॉल करना पड़ा।’

फिलहाल लतिका 9वीं क्लास में है और अब अखिलेश यादव से मदद मांग रही है। वह चाहती है कि अखिलेश यादव गुनाहगारों को तो पकड़े हीं लेकिन बहन और उसके लिए कुछ आर्थिक मदद का भी इंतजाम करें ताकि उनकी पढ़ाई ठीक से हो सके। वहीं इस मामले पर बुलंदशहर के एडिशनल एसपी राम मोहन सिंह ने बताया कि शिकायत के बाद ही मुख्य आरोपी यानी अनु के पति को गिरफ्तार कर लिया गया था। पुलिस ने अनु के पति पर धारा 302 (मर्डर) लगाई गई थी लेकिन पूछताछ होने के बाद पुलिस ने मामले को सुसाइड का बता दिया और पति, मनोज बंसल पर धारा 306 (सुसाइड के लिए उकसाना) लगा दी। वहीं मनोज का दावा है कि उसने अनु को जलाने की नहीं बल्कि बचाने की कोशिश की थी जिसमें उसके भी हाथ जल गए थे।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top