Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

CBI करेगी उत्तर मध्य रेलवे प्रमोशन घोटाले की जांच

 Tahlka News |  2016-05-17 15:28:11.0

cbiतहलका न्यूज ब्यूरो
लखनऊ. उत्तर मध्य रेलवे इलाहाबाद जोन में पांच साल पहले हुए प्रमोशन घोटाले की जांच सीबीआइ को सौंप दी गई है। इसमें एक अधिकारी के नजदीकी को न्यूनतम योग्यता न होने के बाद भी परीक्षा दिलाकर पास कर दिया गया। सीबीआइ जांच से रेलवे अफसरों में खलबली मची है। वर्ष 2011 में ग्रुप सी से सहायक परिचालक प्रबंधक (एओएम) पद के लिए चार प्रमोशन होने थे। इसके लिए 250 आवेदन आए, जिनमें आगरा रेल मंडल से 80 कंट्रोलर शामिल हुए। परीक्षा केंद्र आगरा, झांसी व इलाहाबाद थे। परीक्षा में एक रेलवे अफसर का चहेता कंट्रोलर भी बैठा।


परीक्षा से पहले उसका दूसरे जोन से यहां तबादला कराया गया। परीक्षा में उसे पास कर दिया गया। बाद में असफल अभ्यर्थियों की ओर से सूचना के अधिकार में परीक्षा के बारे में जानकारी मांगी गई। इसमें पता चला कि रेलवे अधिकारी के रिश्तेदार को पास कराने के लिए कई कंट्रोलर के सही जवाबों को भी गलत दिखा दिया था। इस पर 2014 में मामले की शिकायत रेलवे बोर्ड, कैट, एंटी करप्शन सहित अन्य से की। रेलवे ने अब मामले को सीबीआइ को दे दिया है। इससे पूर्व 2000 में प्रमोशन में ऐसा ही खेल हुआ था, जिसमें आधा दर्जन रेलवे अफसरों पर कार्रवाई हुई थी।


केस कैट में भी विचाराधीन
प्रमोशन घोटाले का केस केंद्रीय प्रशासनिक न्यायाधिकरण (कैट), इलाहाबाद में भी विचाराधीन है। केस की सुनवाई जुलाई के अंतिम सप्ताह में है, जिसमें रेलवे अफसरों को तलब किया है। जागरण ने अप्रैल 2015 में चहेते के लिए प्रमोशन के गणित में उलटफेर की खबर प्रकाशित की थी।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top