Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

मायावती की मूर्ति तोड़ने का मामला: CBI कोर्ट का बड़ा फैसला, आरोपी अमित जानी से हटाया देशद्रोह

 Abhishek Tripathi |  2016-10-08 07:43:21.0

amit_janiतहलका न्यूज ब्यूरो
लखनऊ. लखनऊ के गोमती नगर स्थित अम्बेडकर पार्क में तीन साल पहले तोड़ी गई बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो एवं पूर्व मुख्यमंत्री मायावती की मूर्ति तोड़ने के मुकदमे में लखनऊ की सीबीआई कोर्ट ने मुख्य आरोपी अमित जानी सहित अन्य आरोपियों को बड़ी राहत दी है। सीबीआई कोर्ट नंबर 4 के न्यायधीश ब्रजेश सिंह ने मुकदमे को चार्ज पर लगाते हुए मुकदमे में शामिल देशद्रोह/राजद्रोह की गंभीर धारा 124 ए को खारिज कर दिया।


न्यायधीश ब्रजेश सिंह ने अपने आदेश में लिखा है कि मायावती की मूर्ती तोड़ने का मामला देशद्रोह जैसा नहीं है। अमित जानी की ओर से अधिवक्ता संतेंद्र सिंह और आईबी सिंह ने कोर्ट में मुकदमे की धाराओं पर बहस की।


अमित जानी के वकील ने दलील दी थी कि मायावती एक नेता हैं। उनकी प्रतिमा को खंडित किया जाना किसी भी दृष्टिकोण से देशद्रोह नहीं है। ये भी दलील दी गई कि कार्टूनिस्ट असीम त्रिवेदी पर देशद्रोह की धारा लगाए जाने पर सुप्रीम कोर्ट और मुंबई हाइकोर्ट ने मुंबई पुलिस को फटकार तक लगाई थी। इसे साथ ही राजद्रोह/ देशद्रोह की धारा 124 ए हटाने तक की बात हुई थी।


वहीं, जस्टिस मार्कण्डेय काटजू द्वारा इस कानून को खत्म करने के लिए की गई टिपण्णी को भी दलील में शामिल किया गया। बहस के बाद न्यायधीश ब्रजेश सिंह ने देशद्रोह की धारा को खारिज कर दिया। सीबीआई कोर्ट का यह फैसला उस समय आया है जब सपा सरकार द्वारा अमित जानी सहित सभी आरोपियों से केस वापसी के लिए प्रमुख सचिव न्याय एवं विधि रंगनाथ पांडेय को निर्देशित कर चुकी है।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top