Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

BSP विधायक का विवादित बयान, कहा- 'गांधी नहीं, बुद्ध हैं शांति के प्रतीक'

 Abhishek Tripathi |  2016-08-27 02:19:37.0

bsp_mlaतहलका न्यूज ब्यूरो
बालाघाट. 'राष्ट्रपिता महात्मा गांधी शांति के प्रतीक नहीं हैं। अगर होते तो उन्हें भी नोबल पुरस्कार से नवाजा जाता। भारत में शांति के प्रतीक गौतम बुद्ध ही रहे। उनके द्वारा बताए गए शांति व अहिंसा के मार्ग को गांधीजी ने अपनाया था, न कि गांधीजी का मार्ग गौतम बुद्ध ने अपनाया था।' यह विवादित बयान शुक्रवार को बसपा नेता व पूर्व सपा विधायक किशोर समरिते ने प्रेस कान्फ्रेंस में दिया।


समरिते ने कहा कि गांधी की विचारधारा से प्रेरित होकर देश में एक भी व्यक्ति ने हथियार नहीं डाला और न कोई प्रभावित हुआ है। गौतम बुद्ध की विचारधारा से सम्राट अशोक ने धर्म परिवर्तन कर लिया था। समरिते ने बताया कि बालाघाट नक्सली समस्या से प्रभावित है। इससे निपटने के लिए सरकारी नीति और इंतजाम विफल हो रहे हैं। इस समस्या से निपटने के लिए उनके नेतृत्व में जनता शांति मार्च निकालेगी।


इस शांति मार्च में नक्सलियों के खिलाफ पूर्व नक्सली भी शामिल होंगे। शांति मार्च 2 अक्टूबर को लांजी से शुरू होगा, जो नक्सल प्रभावित डाबरी, सोनगुड्डा, रूपझर, उकवा परसवाड़ा समेत अन्य ग्राम होते हुए बालाघाट पहुंचेगा।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top