Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

युवा दिलों में तो आज भी धड़क रहे हैं दुष्यंत

 Sabahat Vijeta |  2016-09-20 13:37:15.0

book-fair-gorakhpur
गोरखपुर. कचहरी क्लब में चल रहे पुस्तक मेले में पुस्तकों के प्रति तो पाठकों का प्रेम उमड़ ही रहा है साथ ही यहाँ शेर-ओ-शायरी भी लोगों के सर चढ़कर बोल रही है. गोरखपुर के इस पुस्तक मेले में दुष्यंत कुमार और राहत इन्दौरी की गजलों के संग्रह की डिमांड हद से ज्यादा बढ़ गई है.


राजकमल प्रकाशन द्वारा प्रकाशित राहत इंदौरी की ‘मौजूद’, दुष्यंत कुमार की ‘साए में धूप’, अली सरदार जाफरी की दीवान-ए-गालिब और दीवान-ए-मीर की भी खासी डिमांड है. वाणी प्रकाशन द्वारा प्रकाशित राहत इंदौरी की ‘चांद पागल है’, अदम गोंडवी की ‘समय से मुठभेड़’, मुनव्वर राना की ‘मां’ व ‘सब उसके लिए’ की किताबें हाथों हाथ ली जा रही हैं.


शायरी के साथ-साथ इस पुस्तक मेले में कहानियों की किताबों की भी काफी डिमांड है. पुस्तक मेले में मशहूर कवियों को लाइव सुनने का मौक़ा भी दिया जा रहा है. कश्मीर के वारामुला जिले के उरी में हुए आतंकी हमले में शहीद जवानों को श्रद्धांजलि देते हुए कवियों ने अपनी रचनाओं से देशप्रेम की सरिता प्रवाहित कर दी. कवियों ने लोगों का आह्वान किया कि वह नफरत से बचें और प्रेम का प्रसार करें. कवि सम्मेलन में राजकुमार सिंह, उमेश त्रिपाठी, सुनील कुमार श्रीवास्तव, विनोद निर्भय, नील कमल गुप्त विचित्र, सुंबुल हाशमी, शाकिर अली शाकिर और ममता सिंह की रचनाएं खूब सराही गईं.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top