Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

बुक फेयर में हो रही विद्यार्थियों की तलाश सार्थक

 Sabahat Vijeta |  2016-09-30 14:30:00.0

book-fair-30

चौदहवां राष्ट्रीय पुस्तक मेला: आठवां दिन

लखनऊ. बलरामपुर के अरहान का कहना है- ‘कम्पटीशन्स बीट करने के लिए नई से नई और अच्छी किताबों की दरकार मुझे पुस्तक मेले में ले आई।’ विदुषी कहती हैं- ‘भाई के साथ मैं यहां बिजनेस मैनेजमेण्ट इंजीनियरिंग की किताबों की खोज में आई हूं। अरविन्द बताते हैं- ‘मासकाम का धरातल बहुत तेजी से बदल रहा है और उनकी नई किताबें मुझ जैसे स्टूडेण्ट्स को चाहिए ही चाहिए।’


ये विचार राजधानी के मोतीमहल लॉन में चल रहे चौदहवें राष्ट्रीय पुस्तक मेले में आने वाले कुछ युवाओं के हैं। पुस्तक मेले में बड़ी तादाद में युवा आकर विभिन्न विषयों की उच्च शिक्षा की पुस्तकों के साथ ही मैनेजमेण्ट और प्रतियोगी परिक्षाओं की नई और अच्छी किताबें खरीदने के लिए आ रहे हैं।


book-fair-30-2


दि फेडरेशन ऑफ पब्लिशर्स एण्ड बुकसेलर्स एसोसिएशन्स इन इण्डिया, नई दिल्ली के सहयोग से हो रहे के.टी.फाउण्डेशन के समापन की ओर बढ़ चले इस चौदहवे मेले का आज आठवां दिन था। रोज सुबह 11 से रात नौ बजे तक चल रहे निःशुल्क प्रवेश वाले इस मेले में पुस्तक प्रेमियों को हर बार की तरह न्यूनतम 10 फीसदी की छूट पुस्तकों पर मिल रही है।


मेले में आईआईटी व बी.टेक की पुस्तकें अतिवीर पब्लिकेशन के स्टाल पर हैं तो तिरुमाला साफ्टवेयर्स में एजूकेशनल सीडी बिक रही हैं। उपकार प्रकाषन, यूनीकॉर्न बुक्स, लेक्सीकॉन बुक्स, बुक्स एण्ड बुक्स, यूबीएस पब्लिशर्स, आशीर्वाद बुक, पैन्थर, स्टूडेण्ट बुक सेण्टर, रवि पब्लिकेशन, प्रतीक बुक, पद्म बुक, आक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस व विधि बुक स्टाल सहित लगभग हर स्टाल पर विद्यार्थियों और प्रतियोगी परीक्षाओं के उपयोगार्थ सामग्री है। पुस्तक मेले में आज अतिथियों के तौर पर पर्यटन मंत्री ओम प्रकाश सिंह, उच्च शिक्षा मंत्री राजेन्द्र चौधरी ने भ्रमण किया।


पुस्तक मेला मंच पर आज सुबह ‘जन्मभूमि ममपुरी सुहावन’ पुस्तक पर परिचर्चा चली। साथ ही तुलसी स्मारक समिति देवरिया के संयोजन में संगोष्ठी व सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। इसके बाद लेखक रामकिशोर की पुस्तक ‘जब्तशुदा कहानियां’ का लोकार्पण हुआ। डा.अमिता दुबे के संचालन में अलका प्रमोद के उपन्यास ‘यूंही राह में चलते-चलते’ का लोकार्पण गोपाल चतुर्वेदी, उषा सिन्हा की मौजूदगी में हुआ। रेवान्त पत्रिका की ओर से कवि वीरेन डंगवाल की स्मृति में आयोजित काव्यगोष्ठी में रचनाकारों ने कविताएं पढ़ीं। शाम को दूसरे मंच पर प्रेमनारायण मेहरोत्रा की पुस्तक पर कार्यक्रम चला। इसके बाद अरशाना अजमत ने नवाबी-अवधी व्यंजनों पर एकल किस्सागोई ‘दस्तरखान’ की प्रस्तुति दी। स्वास्थ्य आयोजनों के क्रम में आज शाम डाक्टर से मिलिए कार्यक्रम में डा.भूपेन्द्र ने मनोवैज्ञानिक रोगों की चर्चा विस्तार से की।


ज्योति किरन रतन के संयोजन में बाल-युवा मंच पर आज काव्यपाठ, ड्रेस बाई न्यूजपेपर, कोलाज व फ्लावर डेकोरेशन की प्रतियोगिताएं आयोजित की गईं। प्रतियोगिताओं में सौम्या गुप्ता, प्रियांशी वर्मा, विशाल, इरफान, अंश अग्रवाल, सूर्यांश, वीथिका तोमर, अग्रिमा, मान, हितेश, जसकरन व अभिश्री सिंह आदि बच्चों व नवयुवाओं ने प्रतिभाग किया।


मेले में आज 1 अक्टूबर 2016


मुख्य सांस्कृतिक मंच


पूर्वाह्न 11.00 बजे- लोकार्पण- होम्योपैथिक औषधि नया दृष्टिकोण कवीन्द्र राजपूत
मध्याह्न 12.00 बजे- उ.प्र.महिला सम्मान प्रकोष्ठ का महिला सुरक्षा कार्यक्रम
अपराह्न 1.00 बजे- कवयित्री सम्मेलन


अपराह्न 3.30 बजे- विमोचन- गजल संग्रह ‘ख्वाबों की हंसी’ डा.हरिओम
सायं 4.00 बजे- डाक्टर से मिलिए- आयुर्वेद डा.विनोद जैन
सायं 5.00 बजे- काव्यगोष्ठी- काव्या संस्था
सायं 7.00 बजे- परिचर्चा- डा.श्रद्धा पाण्डेय की कहानियों पर
रा़ित्र 8.00 बजे- लोक संगीत प्रस्तुति- लोकांजलि
शाम 5.00 बजे- फ्रैगरेंस कैण्डिल बनाने आदि का प्रदर्शन- डा.अखिला आनन्द


बाल-युवा मंच


अपराह्न 2.00 बजे- बाल-युवा प्रतियोगिताएं- क्विज़, इन्स्ट्रूमेण्ट प्ले, पोस्टर मेंकिंग
शाम 4.00 बजे- वैदिक गणित कार्यशाला- सौरभ जैन दिल्ली शिक्षा संस्कृति न्यास
शाम 5.00 बजे- फ्रैगरेंस कैण्डिल बनाने आदि का प्रदर्शन- डा.अखिला आनन्द

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top