Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

भाजपा का डैमेज कंट्रोल : दयाशंकर 6 साल के लिए भाजपा से निष्कासित

 Sabahat Vijeta |  2016-07-20 18:19:10.0

dayashankar-mayawati


तहलका न्यूज़ ब्यूरो 


लखनऊ. बसपा सुप्रीमो मायावती पर शर्मनाक टिप्पड़ी करने वाले दयाशंकर सिंह को दिन में यूपी भाजपा उपाध्यक्ष पद से हटाया गया था और रात में भाजपा से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया. मऊ में दयाशंकर सिंह ने मायावती पर जो टिप्पड़ी की थी उससे संसद के भीतर और बाहर दोनों जगह उबाल आ गया. सभी राजनीतिक दलों ने इस टिप्पड़ी पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की. सदन में अरुण जेटली द्वारा खेद जताने पर भी मायावती नहीं मानीं और इसे दलितों का अपमान बताते हुए तुरंत कार्रवाई की मांग करते हुए देशव्यापी आन्दोलन का एलान कर दिया.


दयाशंकर सिंह की टिप्पड़ी से बैकफुट पर आई भाजपा तुरंत डैमेज कंट्रोल में लग गई. यूपी भाजपा अध्यक्ष केशव मौर्य ने दयाशंकर को उपाध्यक्ष पद से तो हटाया लेकिन दबाव में कोई कार्रवाई करने से इनकार कर दिया लेकिन भाजपा पर पड़ रहे चौतरफा दबाव के बाद अमित शाह और ओम माथुर के बीच इस मुद्दे पर लम्बी चर्चा हुई और इसी बैठक में दयाशंकर को भाजपा से छह वर्ष के लिए निष्कासित किये जाने का फैसला किया गया.


मायावती पर अशोभनीय टिप्पड़ी को बसपा ने बड़ा मुद्दा बनाया और गुरूवार को लखनऊ में प्रदेश भाजपा कार्यालय घेरने पर प्रदर्शन का एलान कर दिया. मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी इस मुद्दे को गंभीरता से लेते हुए दयाशंकर सिंह के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का निर्देश जारी करते हुए कहा कि महिलाओं के सम्मान से खेलने की इजाज़त किसी को नहीं दी जा सकती. महिला सम्मान हमारे लिए सर्वोपरि है. उधर मेवालाल गौतम ने कोतवाली हजरतगंज में दी गई तहरीर में कहा कि भाजपा उपाध्यक्ष दयाशंकर सिंह क्षत्रिय हैं और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और राज्यसभा सांसद मायावती अनुसूचित जाति की हैं. उनके खिलाफ दयाशंकर ने तथ्यहीन आरोप जानबूझकर माहौल को खराब करने के लिए लगाए हैं. यह कोशिश बसपा कार्यकर्ताओं और दलित समाज को भड़काने के उद्देश्य से की गई है.


मेवालाल ने तहरीर में कहा है कि दयाशंकर के इस बयान से दंगा भी भड़क सकता है. दयाशंकर का यह कृत्य अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति अत्याचार निरोधक अधिनियम 1989 के तहत और भारतीय दंड सहिंता के तहत अपराध की श्रेणी में आता है. इसलिए दयाशंकर सिंह के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जाए.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top