Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

प्रशांत किशोर के नाम पर बोले अज़ीज़ कुरैशी, पी.के. कौन पी.के.

 Sabahat Vijeta |  2016-08-19 12:47:43.0

aziz-qureshi


तहलका न्यूज़ ब्यूरो


लखनऊ. उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, और मिजोरम के पूर्व राज्यपाल डॉ. अज़ीज़ कुरैशी जानना चाहते हैं कि यह पी.के. कौन आदमी है. वह न पी.के. को जानते हैं न प्रशांत किशोर को. सीधी- सपाट बात करने वाले अज़ीज़ कुरैशी नहीं चाहते कि सोनिया गांधी कांग्रेस अध्यक्ष पद छोड़ें. राहुल अच्छा काम कर रहे हैं और अच्छा होगा कि ऐसे ही करते रहें. श्री कुरैशी ने कहा कि निराशा और मायूसी के घनघोर अँधेरे के इस दौर में उन्हें राहुल गांधी और अखिलेश यादव रौशनी की एक मिसाल की तरह चमक रहे हैं और यही अंतिम आशा के रूप में नज़र आ रहे हैं.


अज़ीज़ कुरैशी आज लखनऊ में हैं. वीवीआईपी गेस्ट हाउस में पत्रकारों से मुखातिब अज़ीज़ कुरैशी ने इस बात पर ऐतराज़ जताया कि मौलाना कल्बे जवाद. मौलाना तौक़ीर रजा और कुछ अन्य उलेमा मिलकर मुस्लिम वोटों के ध्रुवीकरण की तैयारी कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि धर्मगुरुओं को राजनीति में नहीं पड़ना चाहिए.


अज़ीज़ कुरैशी ने एआईएमआईएम के राष्ट्रीय अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी की इस बात के लिए आलोचना की कि वह अपने भाषणों से सेक्युलर वोटों के बंटवारे का काम कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि सितम यह है कि सारे आंसू सिर्फ मुसलमानों के वोटों के लिए बहाए जाते हैं.


श्री कुरैशी ने कहा कि पिछले दिनों राज्यसभा की 57 सीटों के लिये चुनाव हुए लेकिन अफ़सोस की बात यह है नेहरु और गांधी का नाम जपने वाली 131 साल पुरानी कांग्रेस और डॉ. लोहिया का नाम रटने वाले मुलायम सिंह यादव को एक भी मुसलमान इस लायक़ नहीं मिला जिसे राज्यसभा भेजा जा सके. उन्होंने कहा कि इससे कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के खोखले दावे खुलकर सामने आये हैं और भारतीय जनता पार्टी ने मुसलमान को राज्यसभा भेजकर इन दोनों पार्टियों के मुंह पर कालिख मल दी है. उन्होंने कहा कि यह एक ऐसा अपराध है कि इन दोनों पार्टियों को कटघरे में खड़े होकर आने वाली नस्लों को जवाब देना होगा. उन्होंने कहा कि चिंता की बात यह है कि चुने गए 57 राज्यसभा सदस्यों में 94 फीसदी करोड़पति और अरबपति हैं. उनमें भी बड़ी संख्या में अपराध के क्षेत्र से जुड़े हुए हैं.


अज़ीज़ कुरैशी ने कहा कि मुसलमान कोई बंधुआ मजदूर नहीं है कि किसी भी पार्टी को वोट देने के लिए पाबंद हो. वह जिसे चाहें अपना वोट दे सकते हैं और किसी को भी उनके वोट का हिसाब मांगने का हक नहीं है.


श्री कुरैशी ने उत्तर प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष राज बब्बर की इस बात का समर्थन किया कि किसी भी पार्टी ने मुसलमानों के लिये कुछ नहीं किया. अज़ीज़ कुरैशी ने कहा कि हिन्दुस्तान का मुसलमान किसी भी सरकार से लोकसभा या राज्यसभा का टिकट नहीं मांगता. कोई मंत्री या गवर्नर भी नहीं बनना चाहता. उसे सिर्फ क्लास थ्री और फोर की नौकरी ही चाहता है. फिर भी उसकी बात नहीं सुनी जाती. श्री कुरैशी चाहते हैं कि मुसलमान अब उसी दल को वोट देना तय करें जो उनकी समस्याओं का हल निकाल सकता हो.


अज़ीज़ कुरैशी ने कहा मुसलमान पिछड़ा है क्योंकि उसका कोई नेता नहीं है. उन्होंने कहा कि धीरे-धीरे शिया-सुन्नी झगड़े निबट रहे हैं यह अच्छी बात है. नेहरु और शास्त्री को उन्होंने देश का नेता बताया. उन्होंने कहा कि वह किसी दल के नेता नहीं थे.


उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाइक की तारीफ़ करते हुए उन्होंने कहा कि वह अच्छे आदमी है. एमएलए, एमपी और मिनिस्टर भी रहे हैं और अच्छा काम किया है.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top