Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

अयोध्या विवाद: गर्भगृह में गड़ी है भगवान राम की नार

 Tahlka News |  2016-04-25 17:16:09.0

a1तहलका न्यूज ब्यूरो
अयोध्या, 25 अप्रैल. अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण के लिए सोमवार को एक और मुकदमा बाराबंकी जिला कोर्ट में दाखिल किया गया। नगर पालिका अध्यक्ष रंजीत बहादुर श्रीवास्तव ने सिविल जज सीनियर डिवीजन की अदालत में मुकदमा किया है कि गर्भगृह में ही भगवान राम व उनके भाइयों की नार गड़ी हुई है। अदालत ने मुकदमे के क्षेत्राधिकार पर सुनवाई करने के लिए पांच मई की तारीख तय की है।


रंजीत अयोध्या के महंत जनमेजय शरण दास द्वारा गठित श्रीराम जन्मभूमि मंदिर निर्माण न्यास, जानकी घाट बड़ा स्थान के प्रदेश अध्यक्ष भी हैं। उनके वकील पुनीत मिश्रा ने अदालत में रामायण कालीन और उसके बाद हुए विदेशी आक्रमण के तथ्यों को रखा है तथा तर्क यह दिया है कि हिंदू धर्म में प्रत्येक घर में संवर गृह अथवा गर्भ गृह के नाम से एक स्थान सुरक्षित होता है। श्रीराम जन्मभूमि राजा दशरथ का वही संवर गृह है। प्रचलित कहावतों में भी कहा जाता है कि 'क्या तुम्हारा यहां नार गाड़ा है?' भगवान श्रीराम की भी नार अर्थात गर्भ नाल गर्भगृह में ही कहीं गड़ी हुई है। इसलिए उसी स्थान पर मंदिर निर्माण आवश्यक है। उन्होंने आल इंडिया बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी को जफरयाब जिलानी निवासी निकट बाइसी की मस्जिद मॉडल हाउस लखनऊ के मार्फत प्रतिवादी बनाया है। अदालत से अनुरोध किया गया है कि विवादित स्थल पर यदि कोई मलबा पाया जाता है तो उसे पुलिस बल व पैरामिलिट्री फोर्स के जरिए हटा दिया जाए तथा कब्जा व दखल उन्हें प्रदान किया जाए।


पांच करोड़ किया विवादित संपत्ति का मूल्यांकन
वादी रंजीत बहादुर ने श्रीराम जन्मभूमि की जिस संपत्ति पर कब्जा मांगा है, उसका अनुमानित मूल्यांकन पांच करोड़ रुपये आंका गया है। इसका न्यायालय शुल्क पांच सौ रुपये अदा किया गया है। उन्होंने बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी पर अपने घर के आवासीय कार्यालय पर भी कब्जा करने की कोशिश करने का आरोप लगाया है तथा उसका न्यायालय शुल्क भी पांच सौ रुपये अदा किया है।


'यह याचिका नहीं मेरी विवशता के आंसू हैं। अच्छा होगा वर्ग विशेष के लोग हमारे धार्मिक स्थलों से दावा स्वयं छोड़ दें। जो कानून संपत्ति विवादों का निस्तारण करता है वही कानून अयोध्या विवाद को सुलझाने में सक्षम है। इस मुकदमे में दिए गए तर्क यदि सिद्ध पाए गए तो हमारा अगला दावा अफगानिस्तान तक के लिए होगा।
-रंजीत बहादुर श्रीवास्तव
अध्यक्ष नगर पालिका बाराबंकी

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top