Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

प्रभु से इति रति-मति एवं गति मांग लो सर्वस्व मिल जायेगा: पं. श्रीकांत शर्मा

 Sabahat Vijeta |  2016-12-06 10:55:17.0

pandit-sharma
श्री खाटू मन्दिर में चल रही श्रीमद् भागवत कथा का दूसरा दिन


लखनऊ। श्री श्याम परिवार लखनऊ के तत्वाधान में बीरबल साहनी मार्ग स्थित खाटू श्याम मन्दिर में चल रही श्रीमद् भागवत कथा के दूसरे दिन कोलकाता के बाल व्यास पं. श्रीकांत शर्मा ने कहा कि प्रभु की भक्ति समर्पित भाव लिये यदि करोगे तो वे स्वयं विदूर के घर की तरह तुम्हारे घर आकर दरवाजे पर दस्तक देंगे। प्रभु से मांगना हो तो फिर सांसारिक चीजे क्या मांगना। उनसे इति, रति, मति एवं गति की मांग कर सर्वस्व प्राप्ति का मार्ग प्रशस्त करो। भीष्म पितामह की तरह भक्ति कर उन्हीं की तरह वर मांगो।


उन्होंने कहा कि भीष्म पितामह वाण शैया पर लेट कर भी श्रीकृष्ण से उपरोक्त चारो वरदान मांगा जिससे उनकी अन्तिम गति वासुदेव कृष्ण के सामने हुई। सत्संग की महिमा का विश्लेषण न करते हुये वाल व्यास ने कहा कि सत्संग से प्रभु की प्राप्ति होती है। पूर्व जन्म में क्या थे सत्संग व प्रभु के सम्पर्क से यह सब समाप्त हो जाता है। जैसे मत्स्या से गंधा से कमल गंधा बन गई। सत्यवती ठीक उसी प्रकार सत्संग में शामिल होने से मनुष्य के अन्दर से काम, क्रोध, मद, लोभ आदि का लोप हो जाता है।


pandit-sharma-2


पं. श्रीकांत शर्मा ने कहा कि प्रभु को तीन रास्तों से प्राप्त किया जा सकता है। पहला तेज जो माता-पिता की सेवा करने से मिलता है। ग्रहस्थ आश्रम में रहने वाले मनुष्य अगर भाव में रह कर प्रभु के लिये रोते हैं तो वह मनुष्य साधू बन जाता है। पौराणिक कथा के अनुसार सत्संग के प्रभाव से ही दासी के पुत्र से नारायण के पुत्र हो गये नारद। नारद जी के प्रेरणा से ही वेद व्यास जी ने 18 हजार श्लोक वाला श्रीमद् भागवत की रचना कर दी। बाल व्यास ने कहा कि जिन्दगी में नित्य प्रकाश लाओ यही रास्ता गोविन्द का दर्शन कराता है। उन्होंने कहा कि आंखों में आंसू आते ही भगवान उसे पोंछने के लिए दौड़ते हुए आयेंगे। बस इसी बात ध्यान रखो कि वे आंसू स्वार्थ के आंसू नही होने चाहिए। रोना हो तो ठाकुर जी के लिए रोओ। कथा के अंत में श्री श्याम परिवार लखनऊ के अध्यक्ष मनोज अग्रवाल, महामंत्री सुधीर कुमार गर्ग, कोषाध्यक्ष रुपेश अग्रवाल, मीडिया प्रभारी सुधीश गर्ग,राधे लाल अग्रवाल, डा. अनूप कुमार गोयल, ई. आलोक कुमार गोयल आदि ने भगवान की आरती की। मीडिया प्रभारी सुधीश गर्ग व भारत भूषण गुप्ता ने बताया कि कथा 10 दिसंबर तक दोपहर तीन से शाम सात बजे तक होगी।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top