Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

Exclusive: कन्हैया नहीं 'ओवैशी' के लिए खरीदे थे 3 पिस्टल

 Tahlka News |  2016-04-18 03:17:35.0

a1तहलका न्यूज ब्यूरो
नई दिल्ली, 18 अप्रैल. उत्तर प्रदेश नवनिर्माण सेना के अध्यक्ष अमित जानी ने अपने एक बयान से सभी को चौंका दिया है। जानी ने कहा है कि जेएनयू में भेजे जाने वाले पिस्टल उन्होंने कन्हैया को मारने के मकसद से नहीं बल्कि असद्दुदीन ओवैशी को मारने के लिए खरीदे थे। उन्होंने यह भी कहा कि पिस्टल को बीते सितंबर महीने में खरीदा था।


चुनाव प्रचार के दौरान गोली मारने का प्लान
अमित जानी ने बताया कि उनकी योजना थी कि मुजफ्फरनगर उपचुनाव में जब एआईएमआईएम कैंडिटेट के प्रचार में ओवैसी यहां आते तो दौराला टोल प्लाजा के पास उनके ऊपर हमला कर दिया जाता। अमित जानी ने मीडिया को ये भी बताया कि मुजफ्फरनगर उपचुनाव में ओवैसी की पार्टी ने अपने कैंडिडेट को मैदान से हटा लिया और उनका मुजफ्फरनगर आना ही नहीं हो सका। इसी वजह से वो अभी तक बचे हैं। तभी से ओवैसी के घर पर नवनिर्माण सेना के लोग पहरा दे रहा थे और सही मौके की तलाश ढूंढ़ रहे थे।


ये भी पढ़ें: कन्हैया को बचाने के लिए दिल्ली पुलिस ने अमित जानी के भाई को हिरासत में लिया


जब कन्हैया ने लगाए देश विरोधी नारे
अमित जानी ने बताया कि ओवैसी को मारने की योजना के बीच जेएनयू छात्रसंघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने देशविरोधी नारे लगाए। ऐसे में जानी को लगा कि अन्य देशद्रोहियों के दिल में भी खौफ बैठना चाहिए। अमित ने कहा कि जेएनयू कैंपस में घुस पाना आसाना नहीं था इसलिए कोई दूसरा रास्ता निकालना पड़ा। ऐसे में उमर खालिद के ही एक साथी ने बताया कि जेएनयू कैंपस में हथियार सिर्फ 615 नंबर की डीटीसी बस से ही भेजे जा सकते हैं। जो कि मिंटो रोड टर्मिनल से चलकर जेएनयू के पूर्वांचल हॉस्टल तक जाती है।


ये भी पढ़ें: ऑफिस के बाद अमित जानी की फेक्ट्री, फार्म हाउस और आवास पे दिल्ली पुलिस के छापे, पुलिस ने बढ़ाया गिरफ़्तारी का दबाव!


जब दोस्त ने दिया धोखा
अमित जानी ने बताया कि खालिद के साथी ने धोखा दिया और पुलिस कंट्रोल रूम को भी फोन कर दिया। इससे पुलिस को मामले की भनक लग गई और हथियार को बरामद कर लिया गया। जानी ने यह भी कहा कि कन्हैया को तो इस दुनिया से जाना ही पड़ेगा। इसके लिए हर संभव प्रयास किए जाएंगे।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top