आलोक रंजन को सेवा विस्तार भाजपा खुश, कुछ अफसर निराश

 2016-03-26 17:40:14.0

alok-2तहलका न्यूज़ ब्यूरो


लखनऊ, 26 मार्च. उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव आलोक रंजन को मिले तीन महीने के सेवा विस्तार से उन आईएएस अधिकारियों को गहरी निराशा हुई है जो मुख्य सचिव पद की दौड़ में शामिल थे. जबकि भाजपा विधायक दल के नेता, पूर्व मंत्री और शाहजहांपुर के विधायक सुरेश खन्ना ने राज्य सरकार के इस फैसले की हिमायत करते हुए कहा कि इससे राज्य के विकास को फायदा होगा और आलोक रंजन के कार्यकाल में चल रहे विकास कार्य समय रहते पूरे हो जायेंगे. सुरेश खन्ना ने आलोक रंजन को संतुलित छवि वाला अधिकारी बताया है. इस काम के लिए उन्होंने अखिलेश सरकार को बधाई भी दी है.


1979 बैच के आईएएस अधिकारी अनिल कुमार गुप्ता को आलोक रंजन का सेवा विस्तार बहुत खला है. राजस्व बोर्ड के चेयरमैन अनिल गुप्ता 30 सितम्बर को रिटायर हो रहे हैं. उन्हें उम्मीद थी कि छह महीने के लिए उन्हें मुख्य सचिव बनने का मौक़ा मिल जाएगा. सूत्र बताते हैं कि आलोक रंजन को मुख्य सचिव पद पर मिले सेवा विस्तार के बाद अनिल कुमार गुप्ता ने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से मिलकर अपना दर्द बयान किया और वीआरएस लेने की इच्छा ज़ाहिर कर दी.


आलोक रंजन के बाद मुख्य सचिव के पद की दौड़ में सबसे आगे 1982 बैच के प्रवीर कुमार हैं. फिलहाल वह कृषि उत्पादन आयुक्त के पद पर हैं. हालांकि उन्हें 2019 तक नौकरी करनी है इसलिए उन्हें घबराने की ज़रुरत भी नहीं है. इस पद पर शैलेष कृष्ण भी नियुक्त हो सकते हैं लेकिन ब्रेन हैमरेज से उबरने के बाद से वह नोयडा में रहकर इलाज करा रहे हैं. इस वजह से फिलहाल तो वह इस पद की दौड़ में शामिल लोगों के लिए खतरा नहीं हैं. मुख्य सचिव पद की दौड़ में दीपक सिंघल, नीरज कुमार, रोहित नंदन और अनिल स्वरूप का नाम भी शामिल है. यूपी का अगला मुख्य सचिव कौन बनेगा अब यह तीन महीने बाद ही तय होगा.

loading...
loading...

  Similar Posts

Share it
Top