Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

सपा से विधानसभा टिकट पाने के बाद डॉ. संदीप और उनकी पत्नी हुए बर्खास्त

 Sabahat Vijeta |  2016-12-28 17:19:30.0

sandeep-surabhi


लखनऊ. राजकीय निर्माण निगम के सलाहकार डॉ. संदीप कुमार शुक्ला और उनकी पत्नी और आवास विकास परिषद की उपाध्यक्ष डॉ. सुरभि शुक्ला को आज रात मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने उनके पदों से बर्खास्त कर दिया. डॉ. संदीप को आज ही समाजवादी पार्टी ने विधानसभा के टिकट से नवाज़ा था. मुख्यमंत्री ने बुंदेलखंड दौरे से वापस लौटने के बाद यह फैसला किया.


डॉ. सुरभि और डॉ. संदीप को सपा सुप्रीमो का काफी करीबी माना जाता है. सुरभि शुक्ला और संदीप शुक्ला के साथ पहले भी विवाद जुड़ते रहे हैं. सुरभि को समाजवादी पार्टी से सुल्तानपुर से टिकट भी मिल चुका है. इन दोनों नेताओं के साथ विवाद जुड़ते ही रहे हैं. मुख्यमंत्री के करीबी मंत्रियों को विधानसभा टिकट न देकर संदीप और सुरभि को टिकट मिला तो दोनों को मिले महत्वपूर्ण विभाग वापस ले लिए गये.


डॉ. सुरभि को यूपी सरकार ने राज्य शैक्षिक अनुसंधान परिषद के अध्यक्ष पद से हटाने के बाद फिर से इसी पद पर बिठा दिया था. सरकार ने उन्हें आवास विकास परिषद का उपाध्यक्ष बनाया था लेकिन उन्हें मंत्री का दर्जा नहीं दिया था. हालांकि यही सुरभि जनवरी 2013 में दर्जा प्राप्त मंत्री थीं. वह सिर्फ एक दिन दर्जा प्राप्त मंत्री रहने के बाद हटा दी गई थीं लेकिन जोड़तोड़ कर उन्होंने फिर से मंत्री का दर्जा हासिल कर लिया था.


2012 के चुनाव से पहले ही उन्होंने पूरे सुलतानपुर जिले में अपनी होर्डिंग लगवा दीं. नगर पालिका कर्मचारियों ने उसे हटाने की कोशिश की तो सुरभि के समर्थकों ने उनके साथ मारपीट की थी और होर्डिंग हटाने नहीं दी थी. सुरभि शुक्ला पहले भी सुल्तानपुर में विधानसभा का टिकट पा चुकी थीं. हालांकि उनकी चुनावी पारी भी काफी दिलचस्प रही है. उन्होंने लम्हुआ से चुनाव लड़ने की तैयारी की थी लेकिन उनका विधानसभा का टिकट आठ बार बदला गया था. इस बार उन्हें पति को टिकट मिलने की सजा मिली और पति के साथ-साथ उन्हें भी बर्खास्त कर दिया गया.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Share it
Share it
Top