Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

इसी साल पूरा करो नदियों पर बन रहे 9 पुल, सख्त हुए सीएम

 Sabahat Vijeta |  2016-06-12 14:50:19.0

akhilesh+yadav




  • मुख्यमंत्री ने 6 जनपद मुख्यालयों को 4-लेन सड़क से जोड़े जाने के कार्य को वर्तमान वित्तीय वर्ष में पूरा किए जाने के निर्देश दिए

  • अब तक 49 जिला मुख्यालय 4-लेन से जोड़े जा चुके हैं

  • आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे अक्टूबर, 2016 तक पूरा कराया जाए

  • मुख्यमंत्री ने सड़क, सेतु तथा आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे के निर्माण कार्य की प्रगति की समीक्षा की


लखनऊ. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने 6 जनपद मुख्यालयों को 4-लेन सड़क से जोड़े जाने के कार्य को वर्तमान वित्तीय वर्ष में पूरा किए जाने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने कहा है कि राज्य की प्रमुख नदियों पर निर्माणाधीन 9 दीर्घ सेतुओं का कार्य भी हर हाल में इस वर्ष में पूरा कर लिया जाए.


मुख्यमंत्री आज यहां अपने सरकारी आवास पर सड़क, सेतु तथा आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे के निर्माण कार्य की प्रगति की समीक्षा कर रहे थे. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश के आर्थिक विकास में आवागमन की बेहतर सुविधा के योगदान से वाकिफ है. इसके दृष्टिगत जिला मुख्यालयों को 4-लेन सड़कों से जोड़ने, नदियों पर पुल बनाने के साथ ही आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे का निर्माण कराया जा रहा है. सरकार ने इस एक्सप्रेस-वे की तर्ज पर समाजवादी पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के निर्माण का भी फैसला लिया है, ताकि पूर्वांचल का तेजी से विकास हो सके.


बैठक में अधिकारियों ने मुख्यमंत्री को बताया कि अब तक 49 जिला मुख्यालयों को लोक निर्माण विभाग तथा एनएचएआई द्वारा 4-लेन से जोड़ा जा चुका है। शामली जिला मुख्यालय 4-लेन सड़क से जोड़ दिया गया है. जनपद चित्रकूट, देवरिया, बलरामपुर, लखीमपुर खीरी, हरदोई तथा गोण्डा को 4-लेन से जोड़े जाने के लिए निर्माण तेजी से जारी है. मुख्यमंत्री ने इनका निर्माण वित्तीय वर्ष 2016-17 में पूरा करने के निर्देश दिए.


मुख्यमंत्री ने आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे को समाजवादी सरकार की अति महत्वपूर्ण परियोजनाओं में से एक बताते हुए इसके निर्माण की प्रगति पर संतोष जताया. उन्होंने निर्देश दिए कि निर्माण की मौजूदा गति को जारी रखते हुए एक्सप्रेस-वे का निर्माण अक्टूबर, 2016 तक पूरा कराया जाए.


बैठक में अधिकारियों द्वारा मुख्यमंत्री को यह भी अवगत कराया गया कि समाजवादी पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे परियोजना की फीजीबिलिटी रिपोर्ट व काॅस्ट इस्टीमेट आगामी 15 जून तक परियोजना डेवलपमेन्ट कन्सल्टेन्ट द्वारा प्रस्तुत की जाएगी. उपशा द्वारा अवगत कराया गया कि सोनभद्र जिला मुख्यालय को जोड़ने वाले वाराणसी-शक्तिनगर मार्ग का निर्माण कार्य इस माह के अन्त तक पूरा हो जाएगा.


इनर रिंग रोड, आगरा की प्रगति के सम्बन्ध में आगरा विकास प्राधिकरण के अधिकारियों ने श्री यादव को अवगत कराया कि इस परियोजना के तहत उच्च न्यायालय के स्टे से प्रभावित भाग को छोड़कर उपलब्ध भाग पर सड़क सम्बन्धी कार्य पूर्ण कर लिया गया है. मुख्यमंत्री ने परियोजना के तहत यमुना ब्रिज एवं आरओबी का निर्माण सितम्बर, 2016 तक पूरा किए जाने के निर्देश दिए हैं.


मुख्यमंत्री ने दीर्घ सेतुओं के निर्माण की समीक्षा के दौरान निर्देश दिए कि वाराणसी में गंगा नदी/घानापुर चहनियाँ मार्ग के बलुआ घाट पर निर्मित होने वाले सेतु का कार्य अगस्त, 2016 तक पूरा कराया जाए. उन्होंने वाराणसी जनपद में गंगा नदी/बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय के प्रवेश द्वार के सामने रामनगर मार्ग पर निर्मित होने वाले घाट का कार्य अक्टूबर, 2016 तक पूरा करने के निर्देश दिए.


मुख्यमंत्री ने गाजीपुर जनपद में चन्दौली सकलडीहा सैदपुर मार्ग पर सैदपुर के निकट गंगा नदी पर निर्मित होने वाले सेतु, जमानियाँ कस्बे के निकट गंगा नदी पर कंकडहवा घाट पर बनने वाले सेतु, जनपद सीतापुर में घाघरा नदी/सीतापुर-बहराइच राज्य मार्ग पर घाघरा नदी के ऊपर चहलारी घाट पर निर्मित होने वाले सेतु (सीतापुर साइड की जलधारा पर दीर्घ सेतु) का कार्य इसी वित्तीय वर्ष में पूर्ण करने के निर्देश दिए.


इसके अलावा, मिर्जापुर जनपद में गंगा नदी/मिर्जापुर वाराणसी मार्ग (वाया कछवा) पर भटौली घाट के निकट निर्मित किए जा रहे सेतु तथा गंगा नदी/मिर्जापुर वाराणसी मार्ग (वाया कछवा) पर निर्मित होने वाले बालू घाट चुनार सेतु का कार्य भी इसी वित्तीय वर्ष में पूरा करने के निर्देश दिए.


लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों द्वारा अवगत कराया गया कि 4-लेन परियोजना के अन्तर्गत अब तक 75 जनपदों में से 49 जनपद मुख्यालयों को लोक निर्माण विभाग और एनएचएआई के माध्यम से जोड़ा जा चुका है. अधिकारियों ने बताया कि एनएचएआई द्वारा आश्वस्त किया गया है कि इस वित्तीय वर्ष में 3 जनपद क्रमशः बांदा अक्टूबर 2016, अमेठी दिसम्बर 2016 तथा पीलीभीत अक्टूबर 2016 तक 4-लेन सड़क से जोड़ दिए जाएंगे। इस प्रकार वर्तमान वित्तीय वर्ष के अन्त तक प्रदेश के 60 जिला मुख्यालय 4-लेन सड़कों से जुड़ जाएंगे.


मुख्यमंत्री ने बैठक में मौजूद उच्चाधिकारियों को निर्देशित किया कि वे इन कार्याें को अपनी देख-रेख में निर्धारित अवधि में पूरा कराएं, ताकि जनता को इन परियोजनाओं का लाभ जल्द से जल्द मिल सके.

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top