Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

कैराना से लौटी 5 संतो की टीम ने CM से कहा- यूपी में माहौल ख़राब करने कि खतरनाक साजिश थी

 Girish Tiwari |  2016-06-23 08:55:59.0

kairana-1466650785

तहलका न्‍यूज ब्‍यूरो
लखनऊ:
यूपी के कैराना मामले की जांच के लिए नियुक्त पांच संतों की कमेटी ने गुरुवार को रिपोर्ट सीएम अखिलेश यादव को सौपी। इस दौरान संतो ने कहा कि कैराना विवाद यूपी का माहौल ख़राब करने कि एक खतरनाक साजिश थी। जिसे समय रहते नाकाम कर दिया गया।

बता दें कि कैराना मामले की जांच के लिये यूपी सरकार ने पांच संतो की टीम बनाई थी, जो कैराना जाकर मामले की जांच की और आज सीएम अखिलेश यादव को रिपोर्ट दी। संतों के जांच दल में आचार्य प्रमोद कृषणनन, स्वामी कल्याणदेव, स्वामी चिन्मयानंद, स्वामी चक्रपाणि और स्वामी देवेंद्रानंद शामिल।


कमेटी ने 20 पन्नों की रिपोर्ट में 10 सुझाव भी दिए हैं और साथ ही चेतावनी भी दी है कि अगर इन सुझावों पर तत्काल अमल नही किया तो यूपी दंगों की आग में भड़क सकता है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि हुकुम सिंह जब कैबिनेट मंत्री थे, उस वक्त 121 परिवारों ने कैराना से पलायन किया था। इसके अलावा कुल 150  परिवारों ने पूर्व डीजीपी और बीजेपी जांच कमेटी के सदस्य बृजलाल के कार्यकाल के दौरान पलायन किया था।

कमेटी ने अपनी जांच रिपोर्ट में कहा है कि पिछले कुछ दिनों हुई फायरिंग में जो अपराधी शामिल हैं वे हिंदू हैं और उन्हें शह देने वाले नेता भी हिंदू हैं। इनमें बीजेपी और सपा के भी कुछ नेता शामिल हैं।

कमेटी ने एक ऐसा मंत्रालय/विभाग बनाने का सुझाव दिया जो सांप्रदायिक तनाव के मामलों की निगरानी करे और सीधे सीएम को रिपोर्ट दे। रिपोर्ट में रंगदारी और अपराध का भी ज़िक्र और इसके लिए स्थानीय प्रशासन को ज़िम्मेदार ठहराया गया है। रिपोर्ट में प्रशासनिक ढीलापन और राजनीतिक संरक्षण का भी ज़िक्र है। रिपोर्ट में कहा गया है कि किसी भी हिंदू ने मुसलमानो के ज़ुल्म की बात नही कही है।



Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top