Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

बलरामपुर में 32 बाढ़ चौकियों पर हाई एलर्ट

 Sabahat Vijeta |  2016-07-28 17:45:03.0

shiv-2


शिवपाल सिंह यादव ने जनपद बलरामपुर के बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों का किया हवाई सर्वेक्षण जिलाधिकारी ने मंत्री जी को बाढ़ की तैयारियों एवं प्रभावित क्षेत्रों की दी विस्तृत जानकारी


शिवपाल सिंह यादव ने बाढ़ में लापरवाही करने वाले सिंचाई एवं लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को दी कड़ी चेतावनी जन हानि/पशुहानि होने पर प्राथमिकी दर्ज कराकर अधिकारियों को भेजा जायेगा जेल


लखनऊ. उत्तर प्रदेश के लोक निर्माण, सिंचाई, भूमि विकास एवं जल संसाधन तथा परती भूमि विकास एवं सहकारिता मंत्री शिवपाल सिंह यादव आज जनपद बलरामपुर में बाढ़ से प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण कर स्थित का जायजा लिया उनके साथ प्रदेश के विधान सभा अध्यक्ष माता प्रसाद पाण्डेय, प्रमुख सचिव, सिंचाई सुरेश चन्द्रा तथा प्रदेश के राहत आयुक्त दिनेश कुमार सिंह भी मौजूद थे।


हवाई सर्वेक्षण के उपरान्त स्थानीय पुलिस लाइन के सभागार में लोक निर्माण मंत्री ने बाढ़, राहत तथा बचाव कार्य से सम्बन्धित अधिकारियों से जानकारी हासिल की। इस मौके पर जिलाधिकारी प्रीती शुक्ला ने बताया कि बाढ़ से 140 ग्राम प्रभावित हैं, कृषि क्षेत्र 18024 हेक्टेयर में बाढ़ का पानी आ जाने से फसलें प्रभावित हुई हैं, डीएम ने यह भी बताया कि राप्ती नदी के बढ़ते जल स्तर को देखते हुए सभी 32 बाढ़ चौकियों को हाई एलर्ट कर दिया गया है तथा सभी सम्र्बिन्धत अधिकारी बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों पर सतर्क निगाह लगाये हुए हैं ताकि किसी भी प्रकार की जनहानि व पशुहानि न होने पाये। लोक निर्माण मंत्री के संज्ञान में यह बात आने पर कि कोडरी घाट तटबन्ध पर कटान हो रही है जिसके कारण नीचे का सम्पर्क मार्ग भी छतिग्रस्त हुआ है जिसको सिंचाई विभाग तथा लोक निर्माण विभाग अपने दायित्व से भाग रहा है इस पर मंत्री ने सिंचाई विभाग के अधिकारियों को कड़ी चेतावनी दी कि यदि किसी प्रकार की जनहानि हुई तो प्राथमिकी दर्ज कराकर जेल भेजा जायेगा, उन्होने तत्काल युद्ध स्तर पर कार्य कराते हुए तटबन्ध को दुरूस्त करने के निर्देश सम्बन्धित अधिकारियों को दिये। उन्होने जिलाधिकारी को भी बराबर स्वयं अनुश्रवण करने का निर्देश दिया।


बैठक में मुख्य चिकित्साधिकारी ने बताया कि मेडिकल टीम गठित करके बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में 480 लोगों का उपचार किया गया तथा सभी बाढ़ चौकियों, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर पर्याप्त मात्रा में क्लोरीन, मैट्रोजिल तथा पैरासीटामाॅल दवाइयाॅ उपलब्ध करा दी गयी हैं। मुख्य पशु चिकित्साधिकारी ने कहा कि पशुओं के टीकाकरणक का कार्य यु़द्ध स्तर पर चल रहा है तथा बाढ़ प्रभावित क्षे़त्रों में पशुओं के लिए भूसा उपलब्ध है। उन्होंने जिलापूर्ति अधिकारी को निर्देशित किया कि सभी बाढ़ चौकियों पर मिट्टी का तेल उपलब्ध करा दिया जाये।


बैठक में प्रदेश वन्य जन्तु उद्यान चिकित्सा एवं स्वास्थ्य राज्य मंत्री डा. एसपी यादव, जिले के विधायकगण, जिलाअध्यक्ष ओंकार नाथ पटेल सहित पुलिस अधीक्षक राजीव मल्होत्रा, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. आशुतोष गुप्ता, प्रभारी अधिकारी दैवीय आपदा/अपर जिलाधिकारी शिवपूजन व समस्त उपजिलाधिकारी और तहसीलदार उपस्थित थे।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top