Breaking News
  • Breaking News Will Appear Here

OMG! 26 महीने में 159 करोड़ रुपए का 'मोनोरेल घाटा'

 Abhishek Tripathi |  2016-05-20 14:29:57.0

monorailतहलका न्यूज ब्यूरो
मुंबई. देश की पहली मोनोरेल मुंबई में शुरु करने का महाराष्ट्र सरकार की पहल महंगी साबित होने से गत 26 महीने में 159 करोड़ का घाटा होने की जानकारी आरटीआई कार्यकर्ता अनिल गलगली को एमएमआरडीए प्रशासन ने दिए हुए दस्तावेजों से सामने आ रही हैं। अब तक योजना की मूल लागत में रु 220 करोड़ की वृद्धी इस मोनोरेल योजना में हुई हैं।


आरटीआई कार्यकर्ता अनिल गलगली ने एमएमआरडीए प्रशासन से मोनोरेल की योजना की विभिन्न जानकारी मांगी थी। मोनोरेल के परिवहन नियोजक शंतनु वाघ और परिवहन ऑपरेशन विभाग के विशेष कार्यकारी अधिकारी पीएल कुरियन से प्राप्त हुई जानकारी देते हुए जन सूचना अधिकारी वरुण वैश ने अनिल गलगली को बताया कि चरण 1 वडाला से चेंबूर मार्गिका दिनांक 2 फरवरी 2014 को यात्रियों के लिए शुरु की गई हैं। फरवरी 2014 से मार्च 2016 इन 26 महीनों में कुल 1,21,64,831 इतने यात्रियों ने यात्रा की हैं जिनके टिकट बिक्री से 9,24,95,331 इतनी आय हुई हैं लेकिन मोनोरेल का कार्य और देखरेख खर्च 168 कोटी हुआ हैं जो आय की तुलना में 158,75,04,669 इतना सीधा घाटा हुआ हैं। हर महीने को 6.11 रुपए करोड़ का घाटा एमएमआरडीए उठा रही है।


खर्च में 220 करोड़ की बढ़ोतरी
मोनोरेल योजना में हुई देरी और अनियोजन की मार सिर्फ कार्य और देख-रेख में हुआ होता तो वह मुंबईकरों का सौभाग्य होता लेकिन कुल खर्च में अब तक 220 करोड़ की वृद्धि हुई है। यह योजना 2460 रुपए करोड़ की थी जिसमें 220 करोड़ की वृद्धि हुई है। विशेष यानी एमएमआरडीए प्रशासन ने 2310 करोड़ रुपए (योजना खर्च, वृद्धि की रकम और कार्य व देखरेख खर्च) अदा करने की उदारता दिखाई है। जिसमें एल एंड टी और स्कोमी यह प्रमुख कंपनियां ठेकेदार है। यानी 81 प्रतिशत रकम मोनोरेल योजना शत प्रतिशत पूर्ण होने के पहले ही देने की अतिउदारता दिखाई गई।


5 बार एक्सटेंशन
चरण 1 और चरण 2 इन कामों में हुई देरी को देखते हुए चरण 2 कब तक शुरू होगा, इसकी जानकारी उन्हें बताया गया कि संत गाडगे महाराज चौक से वडाला इस मार्गिका का काम प्रगतीपथ पर हैं। जो जुलाई 2016 तक पूर्ण होने का अनुमान हैं। वहीं, अब तक 5 बार एक्सटेंशन दिया गया है। सबसे पहले 22 नवंबर 2012, दूसरी बार 31 दिसंबर 2013, तीसरी बार 30 जून 2014, चौथी बार 26 सितंबर 2015 और पांचवी बार 19 अगस्त 2016 को किया गया।


6 मौत और 7 घायल
मोनोरल से अभी तक 10 दुर्घटनाएं हो चुकी हैं। इन हादसों में 6 की मौत और 7 घायल हो चुके हैं। ऐसे में एमएमआरडीए ने हर्जाना देते हुए 34.52 लाख रुपए मृतक परिवार को दिए हैं। वहीं, अब तक ठेकेदार से सुरक्षित मामलों पर 36.50 लाख रुपए का जुर्माना वसूला जा चुका है। इसके अलावा 50 लाख रुपए रकम बिल में से पेंडिंग रखी हैं।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top